वनांचल स्वर: जंगल से चिरोटा भाजी,कांदा कुलियारी भाजी चाटी भाजी खाने से लाभ होता है...

ग्राम-मोदे, ब्लॉक-भानुप्रतापपुर, जिला-उतर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से मनोज कुमार पटेल बताते हैं कि जंगल में खाने की क्या-क्या भाजी मिलती है। बस्तर में चिरोंटा भाजी, हुलोलिया भाजी, बरचीकुटी भाजी, मूंगा भाजी, चाटी भाजी, तीनपनिया भाजी, कांदा भाजी, कुलियारी भाजी, पीकरी भाजी, कांटा भाजी, इत्यादि मिलती हैं। जिसमें से कुछ उगाई जाती हैं एवं कुछ जंगल से प्राप्त होती हैं। पटेल को लगता है कि आने वाले 10 सालों में कुलियारी भाजी विलुप्त हो जाएगी। चरोटा भाजी पाचनतंत्र और चर्बी घटाने के लिए काफी लाभदायक भाजी है।सम्पर्क 9479070321,6268684544.(185657) GT

Posted on: Feb 28, 2021. Tags: CG KANKER MANOJ KUMAR PATEL VANANCHAL SWARA

गाँव के जंगल से गिद्ध विलुप्त होने की कहानी...

ग्राम-मोदे, ब्लॉक-भानुप्रतापपुर, जिला-उतर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से मनोज कुमार पटेल बता रहे हैं कि उनके गाँव में पहले बहुत गिद्ध हुआ करते थे, अब गाँव में गिद्ध नहीं दिखते| पहले गाँव में यदि कोई जानवर मर जाए तो गिद्ध दिख जाया करते थे, उन्हें देख बच्चे भी बहुत आनंद लिया करते थे| अब गिद्ध विलुप्त हो गये हैं, कीटनाशकों के ज्यादा उपयोग से वे विलुप्त हो गये साथ-साथ कई जानवर भी विलुप्त हो गये| अब जंगलों में केवल भालू और बंदर ही दीखते हैं| हो सकता है शिकारियों के कारण जानवर जंगलों से विलुप्त हो रहे हैं| अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क @9479070321, 6268684544.(185653) GT

Posted on: Feb 28, 2021. Tags: CG CULTRAL STORY KANKER MANOJ KUMAR PATEL

स्वास्थ्य स्वर : भकन्दर रोग का घरेलू उपचार -

ग्राम-रनई, थाना-पटना, जिला-कोरिया (छत्तीसगढ़) से वैद्य केदारनाथ पटेलआज हम लोगो को भकन्दर रोग का घरेलू उपचार बता रहे हैं, तिल, एरंड का जड़, मुलेठी, इन सबको मिलाकर दूध के साथ पीसकर लेप करने से भकन्दर का पीड़ा में लाभ हो सकता है, 2. अकोल का तेल 100 ग्राम, मोम 25 ग्राम, आग पर गर्म कर के उसमे 3 ग्राम, टिकिया इन सबको मिला कर लेप करने से लाभ हो सकता है,
3. साप का कचुली का भष्म बना कर उसमे तम्बाकू का गुल मिलाकर सरसों के तेल के साथ लेप करने से भकन्दर रोग नष्ट हो जाता है, संबंधित विषय पर जानकारी के लिये संपर्क कर सकते हैं| संपर्क नंबर@9826040015.

Posted on: Feb 28, 2021. Tags: CG HEALTH KEDARNATH PATEL KORIYA

वनांचल स्वर: मलेरिया बुखार का घरेलू उपचार-

ग्राम-मोदे, ब्लॉक-भानुप्रतापपुर, जिला-उतर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से मनोज कुमार पटेल बताते हैं कि किस प्रकार मलेरिया के घरेलू उपचार में औषधियों का इस्तेमाल किया जाता है। उनके दादा, परदादा एवं पिता भी वैद्य रहे हैं। पटेल 2008 से लोगों का उपचार कर रहे हैं। जब गांवों में अस्पताल भी नहीं थे, तब से उनके पूर्वज मरीजों का उपचार कर रहे थे। इसी बात से प्रभावित होकर वह ख़ुद भी वैद्य बने। अस्पतालों के बनने से पहले गांव के लोग उपचार के लिए पूरी तरह वैद्य पर निर्भर थे। वह बताते हैं कि मलेरिया एवं आम बुखार के इलाज के लिए नीम एक उपयोगी औषधि है। पटेल यह काम आजीविका के लिए नहीं, अपितु सेवा भाव के कारण करते हैं। सम्पर्क@9479070321, 6568684544(185676) GT

Posted on: Feb 28, 2021. Tags: CG KANKER MANOJ PATEL VANANCHAL SWARA

कभी राम बनके कभी श्याम बनके...गीत-

जिला-रायगढ़(छत्तीसग) से दिनानाथ पटेल गीत सुना रहे है |
कभी राम बनके कभी श्याम बनके-
चली आना प्रभु जी चली आना-
तुम गणपति रूप में आना-
सिद्धि साथ लेके रिद्धि हाथ लेके-
चले आना प्रभु जी चले आना-
कभी राम बनके कभी श्याम बनके...(GM)

Posted on: Feb 26, 2021. Tags: CG SONG DINANATH PATEL RAIGARH

View Older Reports »