15 साल से बीमारी दूर करने के लिये दवा देते हैं...

ग्राम-ककनार, ब्लाक-दरभा, जिला-बस्तर (छत्तीसगढ़) से समरराम बघेल बता रहे हैं वे छाती दर्द, पेट दर्द शरीर दर्द, सांप काटे का दवा देते हैं 15 साल से दवा दे रहे हैं उनके पास लोग दवा लेने आते हैं और लाभ लेते हैं, दिये नंबर पर बात कर इनसे जानकारी ले सकते हैं : संपर्क नंबर@6264044495.

Posted on: Jan 04, 2020. Tags: BASTAR CG CHANDRABHAN SINGH MARKO HEALTH

हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं...गीत-

ग्राम-कचवाही, पंचायत-जमुरी, जिला-नरायणपुर (छत्तीसगढ़) से दीपिका नुरेटी एक गीत सुना रही हैं :
हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं-
रंग रूप वेष भाषा चाहे अनेक हैं-
बेला गुलाब जूही चंपा चमेली-
बेला गुलाब जूही चंपा चमेली-
प्यारे-प्यारे फूल गूंथे माला में एक हैं-
हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं...

Posted on: Dec 18, 2019. Tags: CG CHANDRABHAN SINGH MARKO NARAYANPUR SONG

प्रार्थना : उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो सोवत है...

ग्राम पंचायत-बम्हनी, जिला-नरायणपुर (छत्तीसगढ़) से चंद्रभान सिंह साथ में संजना, कुमारी सुनीता, अनीता एक प्रार्थना सुना रहें हैं:
उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो सोवत है-
जो सोवत है सो खोवत है, जो जगत है सोई पावत है-
नींद से अखियाँ खोल जरा, और अपने प्रभु में ध्यान लगा-
यह प्रीत कारन की रीत नहीं, रब जागत है तू सोवत है-
नदान भुख्त कर नित्यत नि ये पापी पाप में चैन कहा-
जो कल करना सो आज करले जो आज करे सो अभी...

Posted on: Dec 01, 2019. Tags: CHANDRABHAN SINGH NARAYNPUR CG SONG

कविता : शीत लिए आयी हवा थर थर कापे रात...

ग्राम पंचायत-जमुड़ी, जिला-अनुपपुर (मध्यप्रदेश) से चंद्रभान सिंह मार्को एक कविता सुना रहें है:
शीत लिए आयी हवा थर थर कापे रात-
सूरज चचा आइयें लेकर नवल प्रभात-
धुप शीत में आ गयी जब जब सर के पास-
माँ जैसी ममता लागें पापा का आभास-
कुहरा आकर द्वार पर अड़का रहा विकार-
कहता कुण्डी खोल दो बहुत लग रही जाड़-
कुहरे ने जब कह दिए, कड़वे से कुछ बोल-
गोला सूरज का हुआ, आसमान से गोल-
सूरज जब ढकने लगे जब अपना स्वंय शारीर-
पीड़ित करते शरद ऋतू, किसे सुनाएं पीर-
धुप ठण्ड में छत चढ़ी, खूब रही थी खेल-
चाह भरी शीतल हवा, निचे रही धाकेल-
सूरज जब करता नही, आसमान में सैर-
तभी कोहरा तानता चादर बाहर पैर-
ओढ़े हुए राज्जैया सोते रहे आमिर-
सर्दी अश्रु बाह रही, दे रही गरीब को पीर-
कुहरा में मुस्तैद, घर में जला अलाव-
ठंडा पड़ा अलाव है, बर्फ हो रही देर...

Posted on: Nov 26, 2019. Tags: ANUPPUR MP CHANDRABHAN SINGH MARKO SONG

जंगल घूमा चाचा जी ने, दूरबीन लेकर साथ में, दूर दूर की चिड़िया देखी, उनको अपने पास में...बाल कविता

ग्राम-मसगा, ब्लॉक-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से चन्द्रभान सिंह मारको नन्हे बालको से चर्चा कर रहे है, जो कि कक्षा ३से ५वी तक के है, जो बहुत ही बढ़िया कविता “जंगल घूमा चाचा जी ने” सुना रहे है :
जंगल घूमा चाचा जी ने, दूरबीन लेकर साथ में-
दूर, दूर की चिड़िया देखी, उनको अपने पास में-
ऊँचे पेड़ में चढ़ कर देखा, एक तेंदुआ नीचे-
तभी अचानक बन्दर देखा, दौड़ा उसके पीछे-
चाचा जी ने, जो भी जंगल में देखा-
उसको अपनी डायरी में, नोट कर लिया...

Posted on: Mar 25, 2018. Tags: CHANDRABHAN SINGH MARKO

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download