पीड़ितों का रजिस्टर: गांव छोड़कर 2015 में गांव से शांतिनगर नारायणपुर आ गए

बुधराम सलाम, ग्राम पंचायत-कोहकामेटा, ब्लाक-ओरछा, जिला-नारायणपुर (छत्तीसगढ़) से बता रहे हैं उनके पुराना गांव में बच्चें लोग बहुत बीमार रहते थे। इसलिए वे अपना गांव छोड़कर 2015 में गांव से शांतिनगर नारायणपुर आ गए। मजदूरी कर के अपना जीवन यापन कर रहे हैं। हॉस्पिटल से दवाई करते थे परंतु ठीक नहीं होता था। और जब से कोरोना आया है तो डर नहीं करवा रहे हैं। कोरोना के वजह से अपने बच्चो को हॉस्पिल्ट नहीं ले जा रहे हैं पॉजिटिव आने से बंद कर देंगे इसलिए नहीं जा रहे हैं। वे पीड़ित परिवार से नहीं हैं। उनके छोटे भाई नक्सल पीड़ित परिवार से थे। अपना गांव छोड़कर शांतिनगर में आया था नक्सली डर से फिर बीमारी से उनका मृत्यु हो गई फिर बड़े भाई उनके ही घर में रह रहे हैं। उनका छोटे भाई का बच्चे को देख भाल कर रहे हैं। पुराना गांव में उनको जाने में परेशानी होती हैं। अभी भी डर हैं गांव जाने में उनके बड़े भैया पूरा गांव में ही रहते हैं और खेती बाड़ी करते हैं।

Posted on: Mar 20, 2022. Tags: CG DISPLACED MAOIST VICTIM NARAYANAPUR VICTIMS REGISTER

पीड़ितों का रजिस्टर : नक्सलीयों के वजह से गाँव छोड़ना पड़ा,

ग्राम-टेमरू शान्तिनगर,जिला-नारायणपुर, बस्तर,(छत्तीसगढ़) से सोनाय कोर्राम जी बता रही है कि इनका मूल गाँव को नक्सलियों की डर की वजह से छोड़ना पड़ा था| पीडिता कहती है कि सरकार के द्वारा मिलने वाली सुविधा नहीं मिल पाई है, कृपया पीड़ित परिवार से सम्पर्क कर इनकी समस्या के समाधान करने का प्रयास करें|
संपर्क नंबर@8103204717,CEO@9490957735, कलेक्टर@9425205669.

Posted on: Mar 11, 2022. Tags: CG DISPLACED MAOIST VICTIM NARAYANAPUR VICTIMS REGISTER

पीड़ितों का रजिस्टर: नक्सली संगठन में काम करते थे, कुछ परेशानी के कारण आत्मसमर्पण किया...

ग्राम-गुडरीपारा नारायणपुर बस्तर (छत्तीसगढ़) से लछिम पोयाम जी बता रहे है ये पहले नक्सली संगठन में शामिल थे और कहीं वर्षों तक काम किया| इन्होंने नक्सलियों के साथ काम करते हुए ठीक नहीं लगा इस कारण से से इन्होंने कमेटी के सदस्यों से इजाजत लेकर घर वापस आ गए| आने के बाद पुलिस वालों ने इन्हे पूछताछ के लिए ले गए और बाद में इन्होंने खुद को आत्मसमर्पण किया|इनके नाम पर सहायता राशि के रूप में 8 लाख रुपये दिए जाने थे किन्तु 2 लाख रुपये ही मिले|इनको सरकारी सहायता के रूप में डीआरजी का पद मिला है|इनका आगे कहना है नक्सली और सरकार के बीच शांति वार्ता होन चाहिए परंतु नक्सलियों की सोच अलग है|अधिक जानकारी के लिए संपर्क नंबर@8103229853.

Posted on: Feb 26, 2022. Tags: CG DISPLACED MAOIST VICTIM NARAYANAPUR SURRENDER VICTIMS REGISTER

पीड़ितों का रजिस्टर: मूकबीरी करते हैं, बोल कर नक्सलियों ने गांव से भागा दिए,

ग्राम पंचायत-जाटलूर, ब्लाक-ओरछा, जिला-नारायणपुर (छत्तीसगढ़) से कुल्लेराम गोटा, माता लखमीबाई ,पिता केसाराम गोटा बता रहे हैं नक्सलियों ने 2011 में गांव के लोगों के साथ मीटिंग कियें| वहाँ उनकी माँ को नक्सलियों ने पकड़ कर रखे थे| घर में उनका पिता जी नहीं थे| उनके माँ को नक्सलियों ने बोले मूकबीरी करते हैं| बोल कर उन्हें गांव से भगा दियें| फिर वे लोग नक्सलियों के डर से गांव छोड़कर आना पड़ा| वर्तमान में वे लोग गुडरीपारा, नारायणपुर में रह कर मजदूरी कर के अपना जीवन यापन कर रहे हैं सरकार के तरफ से उन्हें कोई सहयोग नहीं मिली है| अधिक जानकारी के लिए संपर्क नंबर@6267803873, सचिव@9407992143, CEO@9490957735, कलेक्टर@9425205669.

Posted on: Feb 21, 2022. Tags: CG DISPLACED MAOIST VICTIM NARAYANAPUR VICTIMS REGISTER

पीड़ितों का रजिस्टर : 2011 में नक्सलियों ने उनको गांव से भगा दिए डर से आना पड़ा...

विजय पोटाई, पिता बलदेव पोटाई ग्राम पंचायत-मुराहपदर, जिला-नारायणपुर (छत्तीसगढ़) से बता रहे हैं 2011 में नक्सलियों ने उनको गांव से भगा दिए। उनका हर बात मानना पड़ता था। बहुत परेशानी होती थी। वर्तमान में शांतिनगर नारायणपुर में रह रहे हैं। उन्हे सरकार के तरफ से कोई सहयोग राशि भी नहीं मिला है। अधिक जानकारी के लिए संपर्क नंबर@6268666734.

Posted on: Feb 21, 2022. Tags: CG DISPLACED MAOIST VICTIM NARAYANAPUR VICTIMS REGISTER

« View Newer Reports

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


YouTube Channel




Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download