5.6.31 Welcome to CGNet Swara

स्वास्थ्य स्वर: कटसरैया के पौधे के औषधीय गुण और उपयोग-

जिला-टीकमगढ़ (मध्यप्रदेश) से वैद्य राघवेन्द्र सिह राय कटसरैया जिसे पियाबासा के नाम से भी जाना जाता है, के औषधीय गुणो को बता रहे हैं, कटसरैया के पत्तो का रस मधू में मिलाकर दांत और मसूढो पर मालिस करने से दांतो और मसूढो से रक्त बहना बंद हो सकता है और दांत मजबूत हो सकते हैं, इसके अलावा कटसरैया के पंचांग का कल्क बनाकर तेल में धीमी आंच पर पका लें, अच्छे से पीसकर मिला ले और कपूर मिलाकर दाद, खाज, खुजली, चर्म रोग पर लगाएं इससे लाभ मिल सकता है, अधिक जानकारी के लिए दिए गए नंबर पर संपर्क कर सकते हैं :
राघवेन्द्र सिंह राय@9424759941.

Posted on: Oct 16, 2018. Tags: MP RAGHWENDRA SWASTHYA SWARA TIKAMGARH SINGH RAI

अनारी गुइयाँ भजन बिना कैसे करियो रे...भजन गीत-

ग्राम-सलेहकला, पोस्ट-सावरी बाजार, तहसील-मोहखेड, जिला-छिंदवाडा (मध्यप्रदेश) से सविता धुर्वे भजन सुना रही हैं:
अनारी दुनिया भजन बिना कैसे करियो रे-
सगे बाप को रोटी न दे मरे-मरे पछताए-
मुट्ठीभर चवल फेके गऊवा का भात खिलाये-
अकर-ककर को नाग बनाये पूजत है नर-नारी-
सत्य नाग जब निकल पड़ो तो, ले ले कर सब लाठी-
हर जीव बकडा, सर जीव बकडा देवन का चड़ाए...

Posted on: Oct 16, 2018. Tags: BHAJAN CHHINDWARA MOKHED MP SAVITA DHURWE

दुनिया में दीवार बहुत है, फिर भी हमको प्यार बहुत है...रचना-

सुनील कुमार ग्राम-मालीघाट, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से राहुल सेठ की एक रचना सुना रहे हैं :
दुनिया में दीवार बहुत है, फिर भी हमको प्यार बहुत है-
बातें जो होती है तुमसे, बस इतना अधिकार बहुत है-
प्यार ही लेना, प्यार ही देना, खुश हूँ ये व्यापार बहुत है-
फिर मिलते है यह कह देना, जीने का आधार बहुत है-
मेरी छोटी दुनिया में तुम, मेरे ये संसार बहुत है-
पुछू जब भी प्यार है कितना, ये कह देना यार बहुत है...

Posted on: Oct 16, 2018. Tags: BIHAR MUZAFFARPUR POEM SUNIL KUMAR

गवैया गादी रे पक्की सड़क मा, मिरगा कंकानचन ल बीनै राम...शादी गीत-

ग्राम पंचायत-कोमली, विकासखण्ड-मवई, पोस्ट-डाढ़ी भानपुर, जिला-मंडला (मध्यप्रदेश) से मिट्ठनलाल यादव एक गीत सुना रहे हैं :
गवैया गादी रे पक्की सड़क मा-
मिरगा कंकानचन ल बीनै राम-
कहय पति नजर बैरी रे, रोय माया ला जोरै दोस-
नइ आवे गाना रे, पक्की सड़क मा-
पीपर के पत्ता हिलाऊ कैसे यार-
परदेशी माया मिलाऊ कैसे यार...

Posted on: Oct 16, 2018. Tags: MANDLA MARRIAGE MAWAI MITTHANLAL YADAV MP SONG

मुझको जो शत्रु माने वे भी मेरे मित्र...गीत

ग्राम-मालीघाट, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से सुनील कुमार एक गीत सुना रहे हैं :
मुझको जो शत्रु माने वे भी मेरे मित्र-
उनका और मेरा नाता परम पवित्र-
जब सभी को अपना माना कैसी फिर जुदाई-
एक माता के लाल सभी भाई-भाई-
जो करे मेरी निंदा उसे मै बखानू-
मानो मै सोने हेतु रोगी उसे मानू-
मुझको जो शत्रु माने वे भी मेरे मित्र...

Posted on: Oct 16, 2018. Tags: BIHAR MUZAFFARPUR SONG SUNIL KUMAR

« View Newer Reports

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download


From our supporters »