मनिहारी का भेष बनाया...गीत-

सीजीनेट श्रोता दीपक कुमार एक भजन सुना रहे हैं:
मनिहारी का भेष बनाया-
श्याम चूड़ी बेचने आया-
छलिया का भेष बनाया-
श्याम चूड़ी बेचने आया-
झोली कंधे धरी, उसमें चूड़ी भरी-
गलियों में शोर मचाया-
श्याम चूड़ी बेचने आया... (AR)

Posted on: Jan 17, 2021. Tags: SONG

जन गण मन अधिनायक जय हे भारत भाग्य विधाता...राष्ट्रीय गान-

जिला-पूर्णिया (बिहार) से भक्त प्रहलाद राष्ट्र गान सुना रहें हैं-
जन गण मन अधिनायक जय हे भारत भाग्य विधाता ||
पंजाब सिन्धु गुजरात मराठा द्रविड उत्कल वंगा ||
विध्य हिमाचल यमुना गंगा उच्छल जलधितरंगा ||
तव शुभ नामे जागे तव शुभ आशीष मांगे,गाहें तव जय गाथा ||
जन गण मन अधिनायक जय हे भारत भाग्य विधाता ||
जय हे जय हे जय हे जय जय जय जय हे ||
(184011)RM

Posted on: Jan 17, 2021. Tags: GAAN RASHTRA

आसमान में निकले तारे...कविता-

जिला-बड़वानी (मध्यप्रदेश) से परदेश कविता सुना रहें हैं:
आसमान में निकले तारे-
देखो कितने प्यारे प्यारे-
चंदा मामा आओ ना-
आकर मुझे सुलाओ ना-
रोज रात को आते हो-
दिन में क्यों छुप जातें हो...(RM)

Posted on: Jan 17, 2021. Tags: KAVITA

आई आई आई तारिक आ गयी...गीत-

जिला-राजनांदगांव (छत्तीसगढ़) से विरेन्द्र गंद्र्व गीत सुना रहें हैं:
आई आई आई तारिक आ गयी-
सोलह कि तारिक आ गयी-
मन में खुशियाँ छा गयी – आज कोरोना के पीके-
देश हमारे आयें हैं-
बुरे दिन बीते हमारे-
अच्छे दिन अब आये हैं..(RM)

Posted on: Jan 17, 2021. Tags: HINDI SONG

खड़ा हिमालय बता रहा है डरो न आंधी पानी में...कविता-

जिला-कोरबा (छत्तीसगढ़) से किशन नन्द विश्वकर्मा कविता सुना रहें हैं:
खड़ा हिमालय बता रहा है डरो न आंधी पानी में-
खड़े रहो अपने पथ पर सब कठिनाई तूफानी में-
डिगो न अपने प्रण से तो सब कुछ पा सकते हो प्यारे-
तुम भी ऊंचे हो सकते हो छू सकते नभ के तारे...

Posted on: Jan 17, 2021. Tags: KAVITA

« View Newer Reports

View Older Reports »