5.6.31 Welcome to CGNet Swara

जब तक विस्थापितों का पूर्ण पुनर्वास न हो जाए, किसी उद्योग का काम शुरू नहीं होना चाहिए: मांग...

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से राजेंद्र गुप्ता बोल रहे हैं कि पहले उद्योगपति भी इस देश में स्वदेशी भावना से काम करते थे आज उनका परचम तो दुनिया में लहरा रहा है पर गरीब लोग और गरीब हो रहे हैं. गरीबों की ज़मीन अधिग्रहण का बहाना बनाकर औने-पौने दाम में ले ली जा रही है, लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है. बगैर लोगों का सम्पूर्ण पुनर्वास हुए किसी भी उद्योग का काम शुरू नहीं होना चाहिए और सीजीनेट के साथियों को गरीबों की आवाज़ ज़ोर शोर से उठाना चाहिए। ऐसे अनेक आदिवासी किसान हैं जिनको कोई मुआवज़ा नहीं दिया गया है और उनकी ज़मीन उद्योगों को शासन के द्वारा दे दी गयी है ऐसे प्रकरणों पर शीघ्र कार्यवाही होनी चाहिए। राजेंद्र गुप्ता@9993891275

Posted on: Aug 11, 2017. Tags: RAJENDRA GUPTA

अहिंसा का अर्थ कायरता नहीं है, अहिंसा का अर्थ वीरता पूर्वक प्रतिरोध करना भी है : कहानी

एक राज्य पर किसी दूसरे देश के विधर्मी शासक ने आक्रमण कर दिया राजा ने अपने सेनापति को आदेश दिया कि सेना लेकर सीमा पर जाये और मुहँ तोड़ जवाब दे सेनापति आहिंसावादी था वह लड़ना नही चाहता था पर राजा का आदेश था इसलिए वह अपनी समस्या लेकर परामर्श करने के लिए महात्मा के पास गया सेनापति ने कहा युद्ध हो तो शत्रु सेना के सैंकड़ो सैनिक मारे जायेगे |क्या यह हिंसा नही है हाँ है महात्मा बोले पर यह बताओ की यदि हमारी सेना ने मुकाबला न किया तो क्या वह हमारे देश के निरपराध नागरिको की हत्या नहीं करेगे फसल को, सम्पति को, नष्ट करेगे ऐसी दशा में देश की प्रजा की रक्षा करना ही तुम्हारा परम कर्तव्य हैं अहिंसा का अर्थ कायरता नही हैं अहिंसा का अर्थ हैं किसी दूसरे पर अत्यचार न करना लेकिन यदि कोई हम पर आक्रमण और अत्यचार करे तो वीरता पूर्वक उसके द्वारा की जाने वाली हिन्सा का प्रतिरोध करें |

Posted on: Jun 21, 2017. Tags: RAJENDRA GUPTA

मोर टोपी पिन्धईया कहाँ गए...छत्तीसगढ़ी व्यंग्य

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से राजेंद्र गुप्ता छत्तीसगढ़ी भाषा में एक व्यंग्य रचना सुना रहे है :
मोर टोपी पिन्धईया कहाँ गए-
मोर भासन देवैया कहाँ गए-
ग्यारा लाख रुपैया के मोटर मा चढके-
गरीबी हटाईया कहाँ गए-
मोर बाईरी ला खोजत हवों-
मोर दुश्मन ला खोजत हवों...

Posted on: Jun 17, 2017. Tags: RAJENDRA GUPTA

निजी कंपनी नियमों को किनारे रख निजी नाम से ज़मीन खरीद रही है : आरोप, जांच का अनुरोध...

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से राजेंद्र गुप्ता आरोप लगा रहे हैं कि जिंदल पावर लिमिटेड कम्पनी द्वारा 2004 से अब तक 500 एकड़ आदिवासी और गैर आदिवासियों की भूमि को विभिन्न नाम पर क्रय किया गया है वे कह रहे हैं यह एक धोखा है क्योंकि कंपनी ने यह जमीन पवार प्लांट स्थापित करने के लिए खरीदा है उदाहरण स्वरुप वे बता रहे हैं कि कम्पनी द्वारा 250 एकड जमीन दिनेश कुमार भार्गव के नाम पर मन चाहे दामो में खरीदा गया है. वे चाहते हैं कि सरकार इसकी जांच करे क्योंकि किसी भी कंपनी के लिए ज़मीन खरीदने के लिए सरकार द्वारा एक निश्चित प्रक्रिया है जिसका पालन नहीं किया जा रहा है. वे इस सन्देश को सरकार तक पहुँचाने के लिए अपील कर रहे हैं | गुप्ता@9993891275

Posted on: Jun 12, 2017. Tags: RAJENDRA GUPTA

5 जून विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में 36गढ़ की 36 भाजियों (साग) के बारे में जानकारी...

रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से राजेंद्र गुप्ता बता रहे हैं कि 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है वे अनुरोध कर रहे है विश्व पर्यावरण की रक्षा के लिए संकल्प ले अनावश्यक रूप से हरे भरे वृक्षो की कटाई न करे और स्थानीय भोजन खाएं। वे छत्तीसगढ़ में होने वाली 36 प्रकार की भाजी जिसे साग कहते है उनके नाम बता रहे हैं : आमरी भाजी, केट, सिंगा, चना, लाल, ऐडा, गोंदली, गोहार मुस्टेनी, पटवा, कजरा, मंजरिया, चनोरी, तीनपनिया, कुरमा, मोरई, छोलाई, कर्मठा, कांदा, मखना चुनचुनिया, पालक, कुटका बर्रे, गोभी लहसुन, कुशुम, सरसों, चिरोटा, चिरचिरा, कुर्ला, गुडुर मूनगा, आलू, बतवा, मूली। ये सभी साग इस प्रदेश में पाया जाता है, इसका समय और ऋतु के अनुसार अपना महत्व होता है | राजेंद्र गुप्ता@9993891275

Posted on: Jun 02, 2017. Tags: RAJENDRA GUPTA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download