5.6.31 Welcome to CGNet Swara

केलो नदी का पानी गन्दा हो रहा है, दुर्गन्ध है, नहाना मुश्कित है, पशु भी पानी नहीं पी सकते...

तहसील-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी बता रहे है कि केलो नदी इतना गन्दा हो चूका है कि वहां स्नान करना मुश्किल है वहां का पानी बहुत महकता है मवेशी तक पानी नहीं पी पा रहे है उसके बदबू के कारण लोगो का स्वास्थ्य ख़राब हो रहा है. कारण है जिंदल कम्पनी जो उसका कचरा पानी में फेक रहा है| वह बहकर नदी नाले में जा रहा है उससे नदी नाले का पानी भी गन्दा हो रहा है इस समस्या का निदान के लिए कम्पनी कोई पहल नहीं कर रहा है| जब से जिंदल कम्पनी आया है तब से नदी नाला गन्दा हो रहा है, प्रशासनिक अधिकारी कोई ध्यान नहीं दे रहे है : कलेक्टर@07762222103. राजेन्द्र गुप्ता@9993891275.

Posted on: Jun 02, 2018. Tags: RAJENDRA GUPTA

कोयला खदान सार्वजनिक उपयोग की जगहों जैसे कुआं, तालाब का भी अधिग्रहण कर रही है...

ब्लोक तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से राजेन्द्र गुप्ता आरोप लगा रहे है कि तमनार में जिंदल पावर लिमिटेड द्वारा लोगो के मौलिक अधिकारों का हनन किया जा रहा है, रायगढ़ जिला वनांचल क्षेत्र है उड़ीसा से लगा सीमावर्ती इलाका है यह एशिया में सबसे ज्यादा कोयला भंडारण वाला जिला है. यहाँ पर कोयला खदानों और पावर प्लांट के द्वारा सविंधान का दुरुपयोग करते हए, लोगो को मौलिक अधिकारों से वंचित किया जा रहा है| कोयला कम्पनियां सार्वजनिक उपयोग के स्थल जैसे नदी, तालाब, सड़क आदि सार्वजनिक जगहों पर भी अधिग्रहण किया जा रहा है जिससे सभी लोगों का जीवन प्रभावित हो रहा है | राजेन्द्र गुप्ता@9993891275.

Posted on: May 28, 2018. Tags: RAJENDRA GUPTA

भ्रष्ट हवे ज़माना, भ्रष्ट हो गए राज, विपक्ष विद्रोही दिखाए, बर हो गए नाश...कविता

तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से राजेन्द्र गुप्ता छत्तीसगढ़ी में आज के परिवेश के बारे में एक स्वरचित रचना सुना रहे हैं:
भ्रष्ट हवे ज़माना, भ्रष्ट हो गए राज-
विपक्ष विद्रोही दिखाए, बर हो गए नाश-
धन हमर छत्तीसगढ़ का, कर बर्बाद-
इक राधा थन महतारी की, आधा जन बाप-
और पेड़ लगाईंस बबूल के, तो आमा कयसन फड़ही-
झनित करो इते बड़ाई, ये जिंदगी हवे दो दिन के रे भाई...

Posted on: May 26, 2018. Tags: RAJENDRA GUPTA

भाव बिना बाजार में, वस्तु मिले नही मोल...श्लोक-

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से राजेंद्र गुप्ता अपने जीवन यापन की पद्धति जो पूर्वजो के समय से चली आ रही है, उसे बताते हुए एक श्लोक सुना रहे हैं:
भाव बिना बाजार में, वस्तु मिले नही मोल-
भाव बिना हरी क्यों मिले, भाव सहित हरी बोल-
चिंता से चतुराई घटे और घटे शरीर-
पाप से लक्ष्मी घटे कह गये दास कबीर-
दया धर्म का मूल है और पाप मूल अभिमान-
तुलसी दया न छाडीये जब तक घट में प्राण-
बड़ा हुआ सो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर-
पंछी को छाया नही फल लगे अति दूर-
माया मरी न मन मरा और मर-मर गये शरीर-
आशा तृष्णा न मरी का गये दास कबीर...

Posted on: May 11, 2018. Tags: RAJENDRA GUPTA

अखबार पत्र पत्रिकाओं में कई विज्ञापन झूठे और भरमाने वाले होते हैं, उनके चक्कर में न पड़ें...

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से राजेंद्र गुप्ता बता रहे हैं अखबारों में कई सारे छोटे-बड़े विज्ञापन होते हैं, इन विज्ञापनो के माध्यम से लोगो को ठगने का काम भी किया जाता है, इसी का एक उदहारण वशीकरण है, जिसको अखबारों का सहारा लेकर बेचा जाता है, वह बता रहे हैं, इस तरह की चीजों को खरीदना अंधविश्वाश में पड़ना और बढ़ावा देना है, और खुद को धोखा देना है, इसलिए आप अपने इन्द्रियों को वश में करिए, अर्थात खुद को नियंत्रण में रखिये, यदि खुद को नियंत्रित कर लिए तो सब कुछ अच्छा होगा| पत्र पत्रिकाएँ अपने मुनाफे के लिए कुछ भी गलत सलत को भी विज्ञापन के नाम पर परोस देती है

Posted on: May 09, 2018. Tags: RAJENDRA GUPTA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download


From our supporters »