लहू देकर की है जिसने गोंडवाना की हिफाजत...कविता-

ग्राम-देवरी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से कैलाश सिंह पोया एक कविता सुना रहे हैं :
इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना-
रोशनी होगी चिंगारो को जलाये रखना-
लहू देकर की है जिसने गोंडवाना की आजाद-
लहू देकर की है जिसने गोंडवाना की हिफाजत-
उस वीरांगना के दिखाये मार्ग पर जरुर चलना होगा...

Posted on: Sep 25, 2018. Tags: CG GONDWANA KAILASH SINGH POYA POEM SURAJPUR

पहली मै बन्दों वो मोर माता-पिता ला...गोंडवाना गीत

ग्राम पंचायत-कटरा, तहसील-मरवाही, जिला-बिलासपुर (छत्तीसगढ़) से पतराज सिंह मरकाम छत्तीसगढ़ी भाषा में एक गोंडवाना गीत सुना रहे हैं :
पहली मै बन्दों वो मोर माता-पिता ला-
मोर दुनिया देखैया पहली मै बन्दों वो-
नौ महिना तक गर्भ में पाले, दसवे दुनिया दिखाए-
मल-मूत्र के करे सफाई, शुद्ध नारी दुःख उठाये-
जाड घाम से मोखे बचाए गोदी ला सुलाए-
अपने कुश को दूध पिलाके शरीर ला बनाये...

Posted on: Sep 07, 2018. Tags: BILASPUR CG CHHATTISGARHI GONDWANA MARWAHI PATRAJ SINGH MARKAM SONG

दादा हीरा मरकाम एक मूठी चावल महा कल्याण...गोंडवाना गीत

ग्राम-कटरा, ब्लाक-मरवाही, जिला-बिलासपुर (छत्तीसगढ़) से पतराज मरकाम एक गोंडवाना गीत सुना रहे है:
दादा हीरा मरकाम एक मूठी चावल महा कल्याण-
सेवा-सेवा जय बड़ादेवा सेवा-सेवा-
लेवा गोंडवाना रतन के नाम-
10 करोड़ 35 लाखे राजनादगांवे-
जमा है अन्य बचत बैंक के नावे-
एक-एक मूठी मा यही गोंडवाना-
गोंडवाना राजे मा बन बो धन वाना-
समाज बरे करी कुछ गिर मिल के काम-
हमर बैंक हमर पैसा बड़ादेव के नाम...

Posted on: Sep 01, 2018. Tags: BILASPUR CG GONDWANA PATRAJ MARKAM SONG

लहर-लहर लहराये सतरंगी झंडा लहर-लहर लहराये...गोंडवाना सतरंगी गीत -

ग्राम-भेड़िया, पोस्ट-भेड़िया, थाना-चंदोरा, तहसील-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से जयसिंह कुशरो एक गोंडवाना गीत सुना रहे है:
लहर-लहर लहराये सतरंगी झंडा लहर-लहर लहराये-
सातो रंग में सात को सौ पच्चास ला रंगाये-
गोत्र खाजा जनक डोरी ला बंधाये-
सम्मलेन को भ्रमण टाँगे नाचन वाले बाजा म-
लहर-लहर लहराये सतरंगी झंडा लहर-लहर लहराये...

Posted on: Oct 15, 2017. Tags: GONDWANA RAJKUMAR POYA

जागो रे गोंडवाना, जागो रे गोंडवाना, जाती भुलागे धरम भुला गए...गोंडवाना गीत

ग्राम+पोस्ट-भेड़िया, तहसील-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छतीसगढ़) से गोंडवाना राजकुमार पोया एक गोंडवाना गीत सुना रहे है:
जागो रे गोंडवाना, जागो रे गोंडवाना-
जाती भुलागे धरम भुला गए-
जाती भुला गए धरम भुला गए-
और भुलागे, गोंडवाना वाना-
जागो रे गोंडवाना, जागो रे गोंडवाना-
माता भुला गए पिता भुला गए-
जंगल भुला गए, जमीन भुला गए-
भाषा भुला गए, किताब भुला गए-
और भुला गए, गोंडवाना – लिखाई भुला गए, पड़ाई भुला गए-
और भुला गए, गोंडवाना...

Posted on: Mar 02, 2017. Tags: GONDWANA RAJKUMAR POYA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download