घर में पधारो गजानन जी मेरे घर में पधारो...गणेश भजन-

जिला-अजमेर (राजस्थान) से पवन महावर गणेश चतुर्थी के अवसर पर एक गणेश भजन सुना रहे हैं :
घर में पधारो गजानन जी मेरे घर में पधारो-
राम जी आना लक्ष्मण जी आना-
संग में लाना सीता मईया-
ब्रम्हा जी आना विष्णु जी आना-
भोले शंकर को भी ले आना-
घर में पधारो गजानन जी मेरे घर में पधारो...

Posted on: Sep 20, 2018. Tags: AJMER PAWAN MAHAWAR RAJASTHAN RELIGIOUS SONG

भीलों में यहां बहुत भुखमरी है, मैं घर-घर भोजन का सामान देकर सेवा करता हूँ, मुझे अच्छा लगता है...

ग्राम-अमरपुरा, भद्रसर (राजस्थान) से खेमराज बता रहे हैं कि इस गाँव में भील आदिवासियों की बहुत बड़ी संख्या है जिनमें से ज्यादातर लोग गरीब है उन्होंने ऐसे घरो की तलाश की जिनके पास खाने की दिक्कत है, खेती के लिए भूमि नही, पशु नही और उन परिवारों को प्रति महीने में खाने का सामान देने का काम शुरु किया| आज दो महिलओं के घर में भोजन की सामग्री पहुचाया जिनमे से दोनों के पति गुजर गए हैं और एक का बेटा विकलांग है और कोई काम नहीं करता, उसकी बहू छोड़कर चली गयी है, उसको हज़ार रू का सामान दिया तो उसने बहुत आशीर्वाद दिया और कहा थोड़ा और जीऊँगी। इस प्रकार से ये गरीबो की सेवा करते है और अपने इस काम से वे बहुत खुश है कि उनके माध्यम किसी की भलाई हो पा रही है| खेमराज@9460057394.

Posted on: Sep 02, 2018. Tags: KHEMRAJ CHAUDHARI RAJASTHAN

दक्षिण राजस्थान के गरीब भील आदिवासी क्षेत्रों में टीबी की बीमारी महामारी की तरह फ़ैल रही है...

ग्राम-अमरपुरा, तहसील-भदेसर, जिला-चित्तोडगढ, (राजस्थान) से खेमराज चौधरी बता रहे हैं कि वहां के आदिवासी क्षेत्रों में टीबी की बीमारी महामारी की तरह फ़ैल रही है. वे जिले में 72 गावो में करीबन 2500 भील परिवार के बीच काम करते हैं जो बहुत ही गरीब है, ये बंधुआ मजदूरी करते है, जब लोगो से चर्चा की जाती है तो कहते है भूत लग गई है जब लोगो को तैयार कर अस्पताल ले जाया जाता है एक्सरे करवाते है तब डॉक्टर जाँच कर कहता है कि इनको टीबी की बीमारी है ऐसी स्थति में डॉक्टर 9 महीने की दवाई लेने की सलाह देते है पर वे थोड़े दिन में थोड़ा ठीक होने पर दवा लेना बंद कर देते हैं. टीबी की बीमारी उन घरों में ज्यादा होती है जहा गरीबी अधिक है.इलाज के लिए दवाई के साथ साथ अच्छा खाना भी चाहिए. चौधरी@9178610500.

Posted on: Mar 21, 2017. Tags: KHEMRAJ RAJASTHAN

होली की दुनिया, बड़ी निराली...होली कविता -

ग्राम-झांझर, पंचायत-बाखिल, तहसील-कोटड़ा, जिला-उदयपुर, (राजस्थान) से विनोद कुमार होली पर एक कविता सुना रहे हैं:
होली की दुनिया, बड़ी निराली-
लोग डालते कई रंग निराले-
कोई पिला डाले,कोई लाल डाले-
हरा डाले कोई केसरी डाले-
हर कोई बस गुलाल का रंग डाले-
कोई समझे रंग का महत्व-
कोई समझे होली का महत्व-
पर हम न समझे होली का रंग-
सोच रहे होंगे क्यों न समझे-
हम बताते है क्यों न समझे-
होली का रंग शाम उतारोगे-
रंग लगायो कुछ ऐसा लगायो-
बदले समाज की सोच को-
होली खेलो विचारो की खेलो-
होली की दुनिया, बड़ी निराली-
लोग डालते कई रंग निराले...

Posted on: Mar 15, 2017. Tags: VINOD KUMAR RAJASTHAN

शिक्षक कम होने के कारण माता-पिता बच्चों को स्कूल नहीं भेजते, अधिकारी हमारी बात नहीं सुनते...

तहसील- कोटड़ा जिला उदयपुर राजस्थान से विनोद कुमार बता रहे है कि उनके तहसील में कई विद्यालयों में शिक्षको की कमी है और उन कमी को पूरा करवाने के लिए उच्च अधिकारियो को कई बार कहा गया लेकिन अभी तक कोई कारवाही नही की गई है माता पिता शिक्षक न होने के कारण बच्चों को स्कूल भी नहीं भेजते और इस वजह से बच्चो की पढाई ख़राब हो रही है मैं सुनने वाले समस्त साथियों से निवेदन करना चाहता हूँ कि वे दिए गए नम्बरों पर फ़ोन कर दबाव बनाते हुए कोटड़ा तहसील की स्कूलों में जल्द से जल्द शिक्षक लगवाने की कोशिश करे ताकि यहाँ के बच्चो की पढाई सही से हो पाए.कलेक्टर@9460387269 और जिला शिक्षा अधिकारी @9462022632.विनोद@7587454914

Posted on: Mar 12, 2017. Tags: VINOD KUMAR RAJASTHAN

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download