पिंजड़े के तोते से बोली छत पर बैठी मैना...बाल कविता-

ग्राम-बेदमी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से प्रतिमा यादव अपने सखियों के सांथ एक कविता सुना रही हैं :
पिंजड़े के तोते से बोली छत पर बैठी मैना-
बड़े मजे से तुम रहते हो, बोलो ये-
बैठे बैठे मिल जाते हैं भाती-भाती के व्यंजन-
कास मुझे भी मिल पता इस पिंजड़े का जीवन-
भोजन और जल की तलास में हम दिन रात भटकते...

Posted on: Feb 21, 2019. Tags: CG ODGI POEM PRATIMA YADAV SURAJPUR

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download