हमारे मोहल्ले में हैण्डपम्प नहीं है, कई बार कई जगह आवेदन दिए पर कोई ध्यान नहीं दे रहे...

ग्राम-नवगई, पोस्ट+थाना-रघुनाथनगर, तहसील-वाड्रफनगर, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) राजपति सिंह परस्ते बता रहे है कि वार्ड क्रमांक 4 में हैण्डपम्प नहीं है तो वहां पर हैण्डपम्प खनन करने के लिए उन्होंने समाधान शिविर और जन समस्या निवारण केंद्र में भी आवेदन दिए थे| लेकिन उसका आज तक कोई सुनवाई नहीं हुआ इसलिए साथी सीजीनेट सुनने वाले साथियों से मदद की अपील कर रहे है कि इन नम्बरों में बात करके हैण्डपम्प खुदवाने में मदद करें: कलेक्टर@9425253580, S.D.M@7746873930, C.E.O.@9479082150, P.H.E. विभाग@9926603461, सरपंच@9575789750, सचिव@9617494180.

Posted on: Jul 13, 2018. Tags: HANDPUMP RAJPATI SINGH PARSTE SONG VICTIMS REGISTER

पानी की किल्लत है, बार- बार हैंडपंप लगाने का आवेदन देने पर भी सुनवाई नही हो रही है...

ग्राम-नवगई, पोस्ट-रघुनाथनगर, तहसील-वाड्रफनगर, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से राजपते सिंह परस्ते बता रहे है गाँव के वार्ड 4 में पानी की किल्लत है, हैंडपंप लगाने के लिए आवेदन दिया है. लेकिन कोई सुनवाई नही| सीजीनेट के माध्यम से अधिकारियो से मांग कर रहे है कि हैंडपंप खुदवाने में मदद करे. ताकि सभी वार्ड वासियों को पानी की समस्या से निजात मिल सके. कृपया अधिकारियो को इन नम्बरों पर फोन कर मदद करे:P.H.E@8878359171, SDM@
9479089190, कलेक्टर@8462900200, सरपंच@9575789750, सचिव@
9617494180.परस्ते@ 9669480733.

Posted on: May 29, 2018. Tags: RAJPATE SINGH PARSTE SONG VICTIMS REGISTER

आपका स्वास्थ्य आपके मोबाइल में : दस्त का घरेलू उपचार -

ग्राम-ताराडाँड़, पोस्ट-जमुड़ी, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से वैद्य ललन सिंह परस्ते दस्त रोग का एक घरेलू उपचार बता रहे हैं, आजकल गर्मियों का मौसम है चारों ओर लू चल रही है और लोगों को दस्त की शिकायत भी घर घर में हैं. वे बता रहे हैं कि महंगे शहरी उपचार की बजाए गाँव के लोगों को गाँव की वनस्पतियों से ही घरेलू उपचार के बारे में जानना चाहिए। वे बता रहे हैं कि गाँव में मिलने वाले अमलताश के फल का बीज 4 नग पीसकर शक्कर 100 ग्राम, नमक 20 ग्राम नीबू रस 100 ग्राम को मिलाकर पानी में घोल कर पीने से डायरिया दस्त समाप्त हो जाता है | इस बारे में और जानकारी के लिए आप वैद्य ललन सिंह परस्ते से 7089711674 पर संपर्क कर सकते हैं

Posted on: Sep 07, 2017. Tags: LALAN SINGH PARSTE SONG VICTIMS REGISTER

किसान स्वर : पहले हम कोदो, कुटकी उगाते थे, अब खेत बनाकर धान उगाते हैं और अधिक कमाते हैं...

Earlier we used to grow Kodo and Kutki millets and were earning very less. But few years ago an NGO came to our village and advised us to shift to paddy cultivation and helped us made bunds to grow paddy. Around 90% of adivasi farmers of my village of 800 people shifted to paddy and are earning more today says Krishan Kumar Paraste from Kukdur village in Pandaria block of Kabirdham district in Chhattisgarh. He says similarly villagers from other areas can also learn modern way of doing farming. Krishan@9630095766

Posted on: Oct 15, 2016. Tags: KRISHAN KUMAR PARSTE SONG VICTIMS REGISTER

« View Newer Reports