5.6.31 Welcome to CGNet Swara

स्वास्थ्य स्वर: घरेलू सामग्री से ख़ासी, जुकाम व बुखार की उपचार विधि...

सामग्री-नीम की ताज़ा कोपले, काली मिर्च, लोंग, तुलसी की पत्तिया, मिट्टी से बना दिया एवं एक स्टील का बर्तन रख लेवे, नीम की कोपलों को पीस ले फिर उसका रस किसी साफ बर्तन में रख लेवे, इसी तरह काली मिर्च, लोंग, तुलसी की पत्तियों को भी पीस ले सामग्री पीसते समय थोड़ा थोड़ा पानी मिलाते रहे उसके बाद छानकर नीम के रस में मिला दे, मिट्टी के दिए को आग पर गर्म कर लेवे तब तक जब तक लाल दिखने लग जाये,अब उस दिए को स्टील के बर्तन में रख ले, बना हुआ मिश्रण दिए में डाल दे,फलस्वरूप बनी हुई औषधि स्टील के बर्तन में जमा हो जाती है, अब प्राप्त औषधि को ठण्डा होने दे,औषधि पूरी तरह तैयार है,उपयोग करने के उपाय-यदि बच्चा १-५ वर्ष का बच्चा है तो २०ग्राम दिन में दो बार सेवन करे,५ से १५ वर्ष है तो ५० ग्राम दिन में दो बार उपयोग में लाये, १५ से २० वर्ष के लिए भी ५० ग्राम उपयोग में लाये, सावधानिया-शक्कर(चीनी)एवं ठण्डाई चीजो से बचे-मनोज कुशवाह@9174493226

Posted on: Mar 25, 2018. Tags: MANOJ KUSHWAHA

जहाँ डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा, वो भारत देश है मेरा...देशभक्ति गीत

ग्राम-राजापुर, पोस्ट-लड़वारी, जिला-टीकमगढ़ (मध्यप्रदेश) से मनोज कुशवाहा एक देशभक्ति गीत सुना रहे हैं:
जहाँ डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा, वो भारत देश है मेरा-
जहाँ सत्य अहिंसा और धरम का पग-पग लगता डेरा-
जहाँ सूरज सबसे पहले आकर डाले अपना डेरा-
जहाँ राग रंग और खुशी का चारो ओर है घेरा-
किसी नगर में किसी द्वार में न ताला डाले-
प्रेम की बंसी जहाँ बजाता आये शाम सवेरा...

Posted on: Mar 16, 2018. Tags: MANOJ KUSHWAHA

ऐ मेरे वतन के लोगो तुम खूब लगा लो नारा...गीत

ग्राम-राजापुर, पोस्ट-लड़वारी, जिला-टीकमगढ़ (मध्यप्रदेश) से मनोज कुशवाहा एक देशभक्ति गीत सुना रहे हैं :
ऐ मेरे वतन के लोगो तुम खूब लगा लो नारा-
यह शुभ दिन है हम सबका लहरा लो तिरंगा प्यारा-
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गवाये-
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये-
ऐ मेरे वतन के लोगो जरा आंख में भर लो पानी-
जो शहीद हुए है उनकी जरा याद करो कुर्बानी...

Posted on: Mar 13, 2018. Tags: MANOJ KUSHWAHA

इंसाफ की डगर पे बच्चो दिखाओ चल के...देशभक्ति गीत

ग्राम-राजापुर, पोस्ट-लड़वारी, जिला-टीकमगढ़ (मध्यप्रदेश) से मनोज कुशवाहा एक देशभक्ति गीत सुना रहे हैं :
इंसाफ की डगर पे बच्चो दिखाओ चल के-
यह देश है तुम्हारा नेता तुम्ही हो कल के-
दुनिया के रंज सहना और मुह से कुछ ना कहना-
सच्चाइयों के बल पे आगे तुमको बढ़ते रहना-
रख दोगे एक दिन संसार को बदल के-
अपने हो या पराये सबके लिए हो न्याय...

Posted on: Mar 13, 2018. Tags: MANOJ KUSHWAHA

दहेज निषेध क़ानून 1961 में बना पर अब भी जारी, इसे नष्ट करने के लिए कानून बनाना काफी नही...

ग्राम-राजापुर, पोस्ट-लड़वारी, जिला-टीकमगढ़ (मध्यप्रदेश) से मनोज कुशवाहा बता रहे हैं, दहेज प्रथा हमारे समाज में प्राचीन समय से व्याप्त एक संक्रामक बीमार की तरह है, जो हमारे समाज को नष्ट कर रहा है, गोस्वामी तुलसीदास रचित रामचरित मानस के अनुसार में उस समय दहेज़ का स्वरुप ऐसा नही था, बल्कि यह कन्या पक्ष द्वारा खुशी से वर पक्ष को दिया गया उपहार होता था, इस पर कोई दबाव नही होता था, सन 1961 के दहेज विरोधी अधिनियम के अनुसार दहेज़ लेना और देना दोनों ही दण्डनीय अपराध है लेकिन आज भी ये कुप्रथा चल रही है उनका कहना है कानून बनाने मात्र से सामाजिक बुराई खत्म नही हो सकती इसके लिए समाज को स्वयं ही आगे आना होगा| मनोज कुशवाहा@9516058859.

Posted on: Mar 12, 2018. Tags: MANOJ KUSHWAHA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download


From our supporters »