हजारी फूले न तुलसी माय चो सेवा...हल्बी गीत-

ग्राम-पंचायत रेंगागोंदी, ब्लॉक, जिला-कोंडागांव (छत्तीसगढ़) से राजे, गुंदई, गोमती एक हल्बी बोली में कीर्तन सुना रहे हैं:
हजारी फूले न तुलसी माय चो सेवा-
हो श्याम-सुंदरी मैना ले ले उदारी – गोंदा फूले न तुलसी माय चो सेवा-
हो श्याम-सुंदरी मैना ले ले उदारी-
किशन फूले न तुलसी माय चो सेवा-
हो श्याम-सुंदरी मैना ले ले उदारी-
करा फूले न तुलसी माय चो सेवा-
हो श्याम-सुंदरी मैना ले ले उदारी...

Posted on: Mar 02, 2020. Tags: CG CHANDRABHAN MARKO KONDAGAON SONG

पुल नहीं होने से आने जाने में दिक्कत होती है...

ग्राम-आदनार, ब्लाक, जिला-कोंडागांव (छत्तीसगढ़) से गुदलूराम, तालूर, लक्ष्मण, झगडूराम बता रहे हैं, उनके पंचायत में एक नदी है जिसमे पुल की समस्या है, पुल नहीं बने होने से उन्हें आने जाने में दिक्कत होती है, उन्होंने पुल बनवाने के लिये आवेदन दिया है लेकिन सुनवाई नहीं हो रही है इसलिये वे सीजीनेट के साथियों से अपील कर रहे हैं कि दिये नंबरों पर बात कर नदी पर पुल बनवाने में मदद करें : संपर्क नंबर/ कपिल देव@7745973017. कलेक्टर@9425598888, SDM@8827662723, ब्लाक CEO@7247497636, सचिव@9111193351.

Posted on: Feb 29, 2020. Tags: CG CHANDRABHAN MARKO KONDAGANON PROBLEM

ऊँची नीची काय दादा मन के नीचू काय...गीत-

ग्राम-पुसपाल, जिला-कोंडागांव (छत्तीसगढ़) से कुमारी शुभद्रा, सुनीता एक गीत सुना रहे हैं:
ऊँची नीची काय दादा मन के नीचू काय-
सुंदर जीवना जीव ता काले तिवतनवा काय-
रुख राई हरा भरा चिव तो सोजय न – ऊँची नीची काय दादा मन के नीचू काय-
अरे जिंगना जीव तो काजे पीतन वाय काय-
कावा करली काँव काँव बस्तरिया आंव...

Posted on: Feb 22, 2020. Tags: CG CHANDRABHAN MARKO KONDAGAON SONG

मिट्टी की मूर्ति बनाकर जीवन यापन करते हैं अतीक पाल...

माता मौली मेला, नारायणपुर (छत्तीसगढ़) से चंद्रभान श्रोताओं को मेला में शामिल अतीक पाल से परिचय करा रहे हैं, अतीक पाल कलकत्ता के निवासी हैं और वे मेला में मूर्ति बेचने के लिये आये हैं, अतीक पाल मूर्ति बनाने का काम करते हैं और अपनी बनाई मूर्ति को बस्तर के अलग-अलग इलाके में बेचते हैं उसी से उनका घर चलता है, मूर्ति बनाने के अलावा कोई दूसरा काम नहीं करते यही जीविका का साधन है, मूर्ति कला के साथ रंग रोहन का काम भी करते हैं: अतीक पाल@6370536354.

Posted on: Feb 20, 2020. Tags: CG CHANDRABHAN MARKO NARAYANPUR STORY

एक एक एक नाक हमारी एक...कविता-

ग्राम-कुसपाल, जिला-कोंडागांव (छत्तीसगढ़) से बुदंतिन यादव और बेबे एक कविता सुना रही हैं:
एक एक एक नाक हमारी एक-
दो दो दो हांथ हमारे दो-
तीन तीन तीन रिक्से के पहिये तीन-
पांच पांच पांच हमारे हांथ में उंगली पांच-
छ: छ: छ: चीटी के पैर छ:...

Posted on: Feb 20, 2020. Tags: CG CHANDRABHAN MARKO KONDAGAON POEM

« View Newer Reports

View Older Reports »