मेरे नाम से आवास घर आया था, लेकिन पूरा नहीं हुआ, कृपया मदद करें-

मुकेश कवाड़े ग्राम पंचायत-खंडपारा, ब्लाक फरसगांव जिला कोंडागांव (छत्तीसगढ़) बता रहे हैं उनके नाम से आवास घर निकाला था। एक व्यक्ति ठीका लिया था। लेकिन पूरा नहीं किया हैं। गांव में 4 5 लोग नहीं बना है। दो साल हो गया। इसके लिए उन्होंने सचिव सरपंच को शिकायत किए हैं लेकिन अभी तक नहीं बना हैं इसलिए सीजीनेट साथियों से मदद की अपील कर रहे हैं की दिए गए नंबर पर बात कर के समस्या का निराकरण कराने में मदद करें। अधिक जानकारी के लिए संपर्क नंबर@9399259424.

Posted on: Jul 21, 2022. Tags: CG HOUSE KONDAGAON PHARASGAON PROBLEM

पीड़ितों का रजिस्टर: नक्सली लोग 2004 में स्कूल से ले गए थे, पिता जी का मृत्यु हुआ फिर भाग के आयें...

राधा नेताम, ग्राम पंचायत-कुलानार, जिला-कोंडागांव (छत्तीसगढ़) से बता रहे हैं अभी वे लोग कोंडागांव में रहते हैं उन्हें नक्सली लोग 2004 में स्कूल से ले गए थे। उनका खेलकूद में बहुत रुचि था। फिर उन्हें भाग कर आके आत्मसमर्पण किए उनके आने के कारण उनके पिता जी का मृत्यु हुआ फिर भी उनको घर नहीं आने दिए। आने के बाद भी उनको लेने के लिए बहुत बार आके लेकिन अपने गांव में नहीं रह रहे थे। उनको सरकार के तरफ से कोई सहयोग राशि भी नहीं मिला। उनके मां भी नहीं है चार बहन लोग हैं सबका सादी हो गई है। वर्तमान में गोपनीय सैनिक में काम करते हैं 12000 उनका वेतन है उसी में बच्चे को पढ़ाई करा रही है। अधिक जानकारी के लिए संपर्क नंबर@6267868286.

Posted on: Jul 04, 2022. Tags: CG DISPLACED KONDAGAON MAOIST VICTIM PHARASGAON VICTIMS REGISTER

पीड़ितों का रजिस्टर: 2 साल तक नक्सली कमांडर थे फिर आत्मसमर्पण किया...

मुकेश कवाड़े ग्राम पंचायत-खड़गारा , ब्लाक-फरसगांव, जिला-कोंडागांव छत्तीसगढ़) 16 साल से नक्सली संगठन में काम करते थे। 2 साल तक नक्सली कमांडर थे अभी बड़ेडोंगर गोपनीय सैनिक में काम करते हैं। उनके नाम से वायरल निकला था। वे बजार जा रहे थे फिर पुलिस वाले ने उनका सायकल को तोड़ दिए फिर उन्होंने आत्मसमर्पण कर लिए जगदलपुर उनको गोपनीय सैनिक में 12000 वेतन मिल रहा है। जब उन्होंने आत्मसमर्पण किया उस समय उनको कोई भी सहयोग राशि नहीं मिला नौकरी दिया गया अभी उनके घर में कोई काम करने वाले नहीं हैं फिर बाहर रहते हैं घर आने से उनको अभी भी परेशानी है घर में फोन से बात करते हैं। जरूरत पड़ने पर किसी के यहां से पैसा बजा देते हैं। वे परिवार से भी नहीं मिल पाते हैं घर में परेशानी होगा करके खेती बाड़ी हैं उनके वजह से घर में परेशानी होगी। अधिक जानकारी के लिए संपर्क नंबर@8399259424.

Posted on: Jun 21, 2022. Tags: CG DISPLACED KONDAGAON MAOIST VICTIM PHARASGAON VICTIMS REGISTER

पीड़ितों का रजिस्टर: नक्सलियों से डर कर गाँव छोड़ना पड़ा

ग्राम कुलानार जिला कोंडागांव छत्तीसगढ़ से राधा नेताम बता रही है मैं 10वी पढ़ रही थी तब मुझे नक्सलियों ने पकड़ कर संगटन में ले गए थे मैं नक्सली संगटन में तीन साल काम कियी हूँ, 2004से 2007 तक रही हूँ! मैं वह से आ कर राजेश नेताम से शादी की थी वो ख़त्म हुए है 2014-15 को राजेश नेताम बीमार था. मेरे माँ का गाँव कुलानार है जिला कोंडागांव मेरे पती भी कोंडागांव के ही थे उसके बाद मैं वारंट काटके मैं स्कूल में काम कर रही थी ,फिर कांकेर जिला से वारंट खोल के कांकेर से पकड़ ने आ रहे थे फिर मैं थाना में जा कर आत्मा समार पड़ करने को बोलीऔर बड़े डोंगरक थाना से न आत्मा समार पड़ कर दिए फिर अभी g.s में लगा है लगभग 2 साल हुआ क्योंकि मैं आपने गाँव से वारंट कटवाई होती न स्कूल में काम कर रही होती,मैं अभी कोंडागांव जिला में H.p ऑफिस में काम करती हूँ मेरा महिना का सैलरी 11000से 12000 हजार मिलता हैमेरे घर में 2 बच्चे है और नानी है देवर लोग है लेकिन उन लोग अलग-अलग रहते है माँ पापा नहीं है वर्तमान में कोई परेशानी नहीं हैं मैं भी तोड़ा बहुत कमा लेती हूँ और बच्चे मन को भी पढ़ा रही हूँ और माओवादी से उधर दर लगता है इन्धर तो डर नहीं है गाँव में डर हैं इसलिए उधर नहीं जाती हूँ कृपया मदद करें! जानकारी हेतु@6267868286.

Posted on: Jun 19, 2022. Tags: CG DISPLACED KONDAGAON MAOIST VICTIM VICTIMS REGISTER

पीड़ितों का रजिस्टर: पहले नक्सली संगठन में काम किए, 2014 में आत्मसमर्पण किए...

ग्राम पंचायत फरसगांव, ब्लाक फरसगांव, जिला कोंडागांव (छत्तीसगढ़) से सुकलु राम नेताम जी बता रहे हैं पहले नक्सली संगठन में काम करते थे। डर के कारण उस संगठन में शामिल हुए थे। उस समय नक्सलियों से बहुत दबाव था घर में आके खाना खाया करते थे। फिर उन्हें दोनो तरफ से डर हुआ। पुलिस और नक्सली से। गांव फिर उन्होंने भाग गए थे 11 साल रायपुर में थे। उनके परिवार वाले गांव में ही थे। उनके वजह से घर में परेशान किए। नक्सली और पुलिस का बात नहीं मानने से दोनों तरफ से बहुत दबाव था। दोनों तरफ से मरने की धमकी दिए। रायपुर से आने के बाद 2014 डोंगरगांव में आत्मसंपर्ण हुआ और विश्वास दिलाए अब कुछ नहीं होगा कर के फिर अभी फरसगांव में रह रहे हैं। सरकार के तरफ से उन्हें 5 हजार रूपए मिला था। परिवार में 4 लोग रहते हैं। अभी उतना दिक्कत नहीं हैं परंतु डर बना रहता है। अधिक जानकारी के लिए संपर्क नंबर@7725027532.

Posted on: May 20, 2022. Tags: CG DISPLACED KONDAGAON MAOIST VICTIM VICTIMS REGISTER

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


YouTube Channel




Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download