5.6.31 Welcome to CGNet Swara

पहले शौचालय की सुविधा नही थी, अब सरकार सुविधा दे रही है तो उपयोग करते हैं, कुछ नहीं करते...

ग्राम-कन्हारगाँव, पंचायत-विकासपल्ली, ब्लाक-कोयलीबेडा, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से मोहन यादव गाँव के सरपंच दारसू गावड़े और ग्राम निवासी 70 वर्षीय लिंगो दादा से गोंडी में चर्चा कर रहे हैं. गाँव के सरपंच बता रहे हैं कि हमने पंचायत द्वारा स्वीकृत 52 शौचालय का निर्माण पंचायत स्तर पर करा दिया है, लेकिन कुछ लोग उपयोग करते हैं और कुछ नही करते, जिसका जवाब हितग्राही ही दे सकते हैं, वहीँ लिंगो दादा जो 2वर्ष से शौचालय का उपयोग कर रहे हैं, उनका कहना है, कि हम आदिवासी समाज से हैं, पहले शौच की सुविधा नही थी, तो जंगल जाते थे, लेकिन सरकार अब सुविधा दे रही है तो उपयोग करते हैं, इस तरह वे दूसरो को भी प्रेरित करते हैं |

Posted on: Sep 12, 2018. Tags: CG KANKER KOELIBEDA MOHAN YADAV STORY TOILET

हमारे गाँव के शौचालय बनाने का काम 10 साल से चल रहा है पर कई अब भी अधूरे पड़े हैं...

ग्राम-मोहली, तहसील-वाड्रफनगर, जिला बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से रामलाल आयाम बता रहें है उनके गाँव में 2008 में शौचालय बना था केवल सीट लगाया गया था और मिटटी का दीवाल बनाने को कहा गया था| कहीं बना कहीं नही बना, इसके बाद 2017 में फिर से बनाया गया लेकिन आज तक कही-कही ढक्कन नही लगा है और ये पूरे मोहली गाँव का यही हाल है | लेकिन कोई ध्यान नही दे रहें है| इसलिए सांथी सीजीनेट के सभी श्रोताओं से अपील कर रहे हैं कि इन नंबरो में अधिकारियों से बात कर जो शौचालय का काम अधूरा पड़ा है उसको पूरा करवाने में मदद करें: सचिव@8889143388, कलेक्टर@9425253580. सम्पर्क@6260182981.

Posted on: Sep 10, 2018. Tags: RAMLAL AAYAM BALRAMPUR TOILET

सभी घरों में शौचालयों का निर्माण करवाया, लेकिन आदिवासी शौचालयों का उपयोग नहीं कर् रहे...

ग्राम-पिंडकसा, पंचायत-कुरेनार, विकासखंड-कोयलीबेडा, जिला-कांकेर (छत्तीसगढ़) से मोहन यादव के साथ में गाँव की महिला सरपंच वालोबाई करगामी गोंडी में बता रही है कि उन्होंने स्वच्छता अभियान के अंतर्गत उनके गाँव में शत प्रतिशत सभी घरो में शौचालयों का निर्माण कराया है | लेकिन गाँव के लोग शौचालयों का उपयोग नहीं कर रहे है और वे लोग बाहर जंगल पहाड़ो में ही शौच करने जाते है| शौचालयों में सूअर को बांधते है| बोलने पर कहते है कि हम लोगो को शौचालयों में जाने की आदत नहीं है | गाँव के कुछ ही लोग उपयोग करते है | उनके गाँव में बंगाली लोग भी है वे सब लोग शौचालयों का उपयोग करते है | लेकिन आदिवासी शौचालयों का उपयोग नहीं कर रहे है |

Posted on: Sep 08, 2018. Tags: CG GONDI KANKER KOELIBEDA MOHAN YADAV TOILET

एक साल पहले शौचालय का निर्माण किया, उसके लागत और काम का पैसा अभी तक नहीं मिला...

ग्राम-उलिहा, प्रखण्ड-कोयलीबेडा, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से बुधुराम वड्डे और दोबेराम नरोटी बता रहे है कि एक साल पहले उन्होंने शौचालय का निर्माण कराया लेकिन आज तक लागत का पैसा नही मिला और न काम करने का पैसा दिया है, इसके लिए उन्होंने कई बार सरपंच सचिव के पास शिकायत किये और आवेदन भी किया लेकिन उस पर कोई सुनवाई नही हुई, इसलिए साथी सीजीनेट के सांथियो से अपील कर रहे हैं कि दिए गए नंबरो पर बात कर लागत का पैसा दिलाने में मदद करे. गाँव में शौचालय तो बन गए हैं पर ऐसे ही कई लोगों को लागत और काम करने का पैसा अब तक नहीं मिला है : दलसू उसेंडी सचिव@9406157325. C.E.O.@07880231393.

Posted on: Aug 26, 2018. Tags: BUDDHRAM WADDE CHHATTISGARH KANKER TOILET PAYMENT

सरकार द्वारा मेरे घर में शौचालय बनने का काम 3 महीने पहले शुरू हुआ पर अब तक पूरा नहीं हुआ...

ग्राम-नरोला, जनपद पंचायत-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से इंदकुंवर केवट सीजीनेट जन पत्रकारिता यात्रा के सुखसागर सिंह पावले को बता रही है कि उनके घर के शौचालय को 2-3 महीने से अधूरा बनाकर छोड़ दिए है | उसके लिए उन्होंने सरपंच को बोले तो बोलते है कि ईट नहीं है ईट गिरेगा तब बनवायेंगे। उनका अनुरोध है कि उनके घर में शौचालय जल्दी बनना चाहिए जिससे उन्हें शौच के लिए बाहर नहीं जाना पड़े | इसलिए साथी सीजीनेट सुनने वाले साथियों से मदद की अपील कर रहे है कि दिए गए नंबरो में अधिकारियों से बात कर शौचालय बनवाने में मदद करें: C.E.O.@9165689001, S.D.M.@9165493212. संपर्क इंदकुंवर@7770950614.

Posted on: Aug 20, 2018. Tags: HINDI TOILET INDKUWAR SURAJPUR CG

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download


From our supporters »