एके ठौने महेरवा के, पडालोमे नेगें...बघेली लोक गीत-

ग्राम, पोस्ट-उलही खुर्द, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से रमेश कुमार गुप्ता एक बघेली लोक गीत सुना रहे हैं इसे शादी के अवसर पर गाते हैं:
एके ठौने महेरवा के, पडालोमे नेगें-
बेलरस रेमे हो-
एके समरसु पिया से चले जाये-
ससुर का बड़ा दुःख हो-
एके ठौने महेरवा के, पडालोमे नेगें...

Posted on: Jun 12, 2019. Tags: MP RAMESH GUPTA REWA SONG

जरो बिन सारे की नदियाँ हो...बघेली लोकगीत

ग्राम+पोस्ट-उलहीखुर्द, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से रमेश गुप्ता एक बघेली लोकगीत सुना रहे है:
जरो बिन सारे की नदियाँ हो
मोरो महुआ उजड़ गव-
महुआ उजड़ गव मोरो-
महुआ उजड़ गव-
सास मोरे घर मा ससुर मोरे घर मा-
जरो बिन सारे की नदियाँ हो...

Posted on: Jun 08, 2018. Tags: RAMESH GUPTA

अँखियाँ हरि दर्शन को प्यासी...भजन गीत -

ग्राम-उलहीखुर्द, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से रमेश गुप्ता एक भजन गीत सुना रहे है:
अँखियाँ हरि दर्शन को प्यासी-
केसर तिलक मोती अनेक माला-
निश दिन रहत उदासी-
आये उद्धव ज्ञान सि खाबे-
अँखियाँ हरि दर्शन को प्यासी...

Posted on: Dec 04, 2017. Tags: RAMESH GUPTA

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download