5.6.31 Welcome to CGNet Swara

बाल सभा में बोल रहे थे, मेडम जी एक बार...स्वच्छता पर कविता -

ग्राम-तमनार, पड़ेगाँव, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से बालकवि डॉ.PS पुष्प कविता सुना रहे है:
बाल सभा में बोल रहे थे, मेडम जी एक बार-
लाभ हमे क्या स्वास्थ्य सताते, इस पर करे विचार-
राजू उठकर हाथ जोड़ के, बोला वाह मेडम जी-
साफ़ सफाई पर निर्भर है, सुंदर भारत मेडम जी-
स्वच्छ शहर सुंदर सी सड़के, देता है यह साफ़ सफाई-
पास बुलाता शुद्ध हवा को, स्वच्छ जल देता है भाई-
स्वच्छ धरा फुल बगिया देकर, मन हरसाता साफ़ सफाई...

Posted on: Jan 30, 2018. Tags: PS PUSHP

माँ मुझको जीवन दे दे तू...गीत

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से बालकवि PS पुष्प एक माँ से सम्बंधित एक गीत सुना रहे हैं:
माँ मुझको जीवन दे दे तू-
मैं जग में नाम कमाउंगी-
इन नन्हे कदमो से चलकर-
मैं आसमान छू आउंगी-
करके देख भरोसा ओ माँ-
मुझ पर एक एहसान कर-
छोडूंगी न साथ तुम्हारे-
दुग्धपान का दान कर-
मैं तेरा ही शाही हूँ माँ-
अलग कहाँ रह पाउंगी...

Posted on: Jan 25, 2018. Tags: PS PUSHP

जा रहा था पढने स्कूल कंधे पर लटकाके झोला...बालगीत -

ग्राम-तमनार पड़ेगाँव, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से बाल साहित्यकार डॉ PS पुष्प एक बालगीत सुना रहे है:
जा रहा था पढने स्कूल-
कंधे पर लटकाके झोला-
ठिठक गया था यही देखकर-
नील गगन में उड़न खटोला-
रंग बिरंगे रंगों से जी-
सजा हुआ था उडन खटोला-
तेज गति से सर-सर-
उड़ रहा था उडन खटोला-
सचमुच देखा था मैं उस दिन-
सपने में एक उडन खटोला...

Posted on: Jan 24, 2018. Tags: PS PUSHP

माँ मुझकों जीवन दे दे तू, मै जग में नाम कमाऊँगी...बेटियों पर गीत -

ग्राम-तमनार पड़ेगाँव, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से बाल कवि डॉ. पी.एस.पुष्प बेटियों के सम्मान में एक गीत सुना रहे है:
माँ मुझकों जीवन दे दे तू मै जग में नाम कमाऊँगी-
इन नन्हे कदमों से चलकर मै आसमान छू, आऊँगी-
कर के देख भरोसा ओं माँ दुःख दा पानी का दान कर-
छोडूगी ना साथ तुम्हारा मुझ पर एक एहसान कर-
मै तेरा ही साईं हु माँ अलग कहा रह पाऊँगी-
माँ मुझकों जीवन दे दे तू मै जग में नाम कमाऊँगी...

Posted on: Jan 16, 2018. Tags: PS PUSHP

प्यारी-प्यारी कोयल रानी, बगिया में नित आना तुम...बाल गीत -

पड़ेगाँव, ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से डॉ PS पुष्प एक बाल गीत सुना रहे है:
प्यारी-प्यारी कोयल रानी-
बगिया में नित आना तुम-
मीठे आमो के पेड़ो में-
भौरों को महकाना तुम-
फिर डाली डाली में जाकर-
अपना रंग जमाना तुम-
कुहू-कुहू मीठी वाणी से-
सबका मन बहलाना तुम-
प्यारी-प्यारी कोयल रानी...

Posted on: Jan 12, 2018. Tags: PS PUSHP

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download


From our supporters »