चौकीदार को दमदार और होसियार होना चाहिये...कहानी-

एक दिन की बात है| एक प्यासा शेर पानी की तलास में निकला| काफी दूर चलने के बाद उसे एक नदी मिला| वह पानी पिया और आराम करने के लिये एक बरगद के पेड़ के नीचे बैठ गया, और गहरी नीद सो गया | जब शेर जगा सूर्यास्त होने वाला था| नदी पास ही एक गांव था| वह सोचा थोड़ा घूमकर आया जाय| और चल पड़ा गांव में एक कुत्ता घूम रहा था| शेर ने पूछा तुम कौन हो भाई कुत्ता बोला मै गांव का चौकीदार हूँ| लोग मुझे चाहते हैं| खाने को देते हैं| कुत्ते के पूछने पर शेर बोला मै जंगल का राजा हूँ| मुझसे सभी डरते हैं| कुत्ता बोला इधर कैसे आये| मै तुम्हे नहीं आने दूंगा| तब शेर ने उस पर वार करने को सोचा | लेकिन कुत्ता होसियार था| वह भागकर जोर से भौकने लगा| आवाज सुनाकर दूसरे कुत्ते और गांव के लोग आ गये, जिसे देखकर शेर को जान बचाकर भागना पड़ा|

Posted on: Apr 15, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH STORY

लोग दिखाते तो अच्छे हस्ती वाले हैं, पर उनका क्रियाकलाप इतना घटिया होता है...कविता-

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ियारी एक कविता सुना रहे हैं:
लोग दिखाते तो अच्छे हस्ती वाले हैं-
पर उनका क्रियाकलाप इतना घटिया होता है-
कि छोटे बच्चे भी हँसने लगते हैं-
बात इतनी ऊँची-ऊँची करते हैं कि-
कोई सीमा नहीं होता, पर करते कुछ नही...

Posted on: Apr 14, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI POEM SURAJPUR

लोग अकेले में डरते हैं, पर मुझे भीड़ भाड़ से डर लगता है...कविता-

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ियारी अपने विचारो को कविता के माध्यम से प्रस्तुत कर रहे हैं :
लोग अकेले में डरते हैं-
पर मुझे भीड़ भाड़ से डर लगता है-
सैतानी भी भीड़ भाड़ में ही होती है-
एकांत तो संत महात्माओ का है-
एकांत में रहने से ईश्वर का भी ध्यान होता है-
इसीलिए तो संत गुरु एकांत में रहते हैं...

Posted on: Apr 14, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI POEM RAIGARH

मुझे इतना शक्ति दे दो हे धरती माँ, कि मै नील गगन से उड़ अऊँ...कविता-

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ियारी एक कविता सुना रहे हैं :
मुझे इतना शक्ति दे दो हे धरती माँ-
कि मै नील गगन से उड़ अऊँ-
बादलों से लोहा लेकर फिर जमीं पर लौट आऊ-
पर्वतों से टकराकर चट्टानों को काटकर राह बना सकूं-
फूल बनकर शहीदों के शवों पर स्वागत में इठलाऊ-
मुझे इतना शक्ति दे दो हे धरती माँ-
कि मै नील गगन से उड़ अऊँ...

Posted on: Apr 13, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI POEM RAIGARH

एसी शक्ति भर दो माँ, मुझपे कृपा करके माँ...कविता-

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ियारी एक गीत सुना रहे हैं :
एसी शक्ति भर दो माँ, मुझपे कृपा करके माँ-
बनके पतंग उड़ जाऊं मै-
नील गगन में इठलाऊं मै-
फिर नील गगन के नीचे आ-
धरती में बस जाऊं-
तन मन धन से सेवा करके धरती माँ को सुंदर बनाऊ...

Posted on: Apr 12, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI POEM RAIGARH

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download