5.6.31 Welcome to CGNet Swara

मुझे कृष्ण रंग है प्यारा, मुझे श्याम रंग ने दुलारा...होली गीत

ग्राम-तमनार, जिला-रायगड़, (छतीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी एक होली गीत सुना रहे हैं:
मुझे कृष्ण रंग है प्यारा, मुझे श्याम रंग ने दुलारा-
खेलो कृष्ण रंग की होली, मारो श्याम रंग पिचकारी-
बोलो प्रेम, प्यार की बोली, भरलो प्रेम प्यार से झोली-
मुझे कृष्ण रंग है प्यारा मुझे श्याम रंग ने दुलारा-
होली है, होली है, होली है...

Posted on: Feb 13, 2018. Tags: KANHAIYALAL PADIYARI

जोश न खोया होश न खोया...देशभक्ति कविता

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी एक कविता सुना रहे है:
जोश न खोया होश न खोया-
देश की सेना का वीर जवान-
हाथ में राइफल लेकर-
दुश्मनों पर टूट पढ़ा-
परवाह न किया अपना जान-
गिन-गिनकर चुन-चुनकर-
दुश्मनों को मार गिराया-
जान के बदले जान लेकर
दुश्मनों का मान बढाया...

Posted on: Feb 08, 2018. Tags: KANHAIYALAL PADIYARI

अंखियो में आसू के प्याले रखना...गजल -

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी सुखदेव पटनायक सदा की एक गज़ल सुना रहे है:
अंखियो में आसूओं के प्याले रखना-
जिन्दगी को दर्द के हवाले रखना-
जल रहा है ये शमा ना, कही सुख न जाये-
तूने किस डाग की नदी नाले रखना-
पीछे नाव धार पतवार बिक गई-
करके भ्रटाचार, सरकार बिक गई-
चाँदी की चमक पे, एतबार बिक गए-
तू लिखनी को हाथो में, संभाले रखना-
तेरे जज्बातों पे हसेगी दुनिया-
अपनी ही कसौटी पे कसेगी दुनिया...

Posted on: Jan 30, 2018. Tags: KANHAIYALAL PADIYARI

काला-काला श्याम सलोना...कविता

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी एक कविता सुना रहे है:
काला-काला श्याम सलोना-
मेरे बगिया में रोज आता-
कलियों के पास जा जाकर-
कानो में कुछ कहता-
फूलो के नजदीक जाकर-
फूलो से मीठा पराग चुराता-
बगियों में नित गुंजन करके-
बगियों का शोभा बढाता-
कलियों को खिलने का इंतजार कर-
उन्हें कभी नुकसान नहीं पहुंचता...

Posted on: Jan 29, 2018. Tags: KANHAIYALAL PADIYARI

बेटी देश की धड़कन, बसी हर कण कण...बेटियों पर गीत -

ग्राम-तमनार जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ीयारी एक बेटी गीत सुना रहे है:
बेटी देश की धड़कन, बसी हर कण कण-
माँता पिता का ऊँचा मन, जोड़ा धन कण कण-
सगाई की बात चली बेटी, पराई घर चली-
बजी बैंड शहनाई, बेटी हुई पराई-
बेटी आई ससुराल, ससुर ने दिया निकाल-
शौहर ने किया हलाल, उसे बनना था मालामाल-
दहेज की बिमारी, फ़ैल रही है भारी-
बन गए शिकारी कब तक रहेगा महामारी-
बेटी कब तक बलि की बकरी यहाँ हर गली सकरी...

Posted on: Jan 24, 2018. Tags: KANHAIYALAL PADIYARI

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download


From our supporters »