पारंपरिक खेती के बारे में जानकारी दे रहे है

पंचायत बिरगली (कलापारा), ब्लाक-बस्तानार, जिला-बस्तर (छत्तीसगढ़) से ऊँगी जी बस्तर की पारंपरिक कृषि के बारे में जानकारी दे रहे हैं|इनके गाँव में रशायनिक खाद का प्रयोग किए बिना ही अच्छी फसल प्राप्त करते है|फसलों में सिर्फ गोबर खाद का उपयोग कर धान, मड़ैया, कोदो, कुटकी, मक्का, जुड़नगा आदि फसलों को बोया जाता है|मड़ैया का उपयोग गर्मी में ज्यादा करते है इसका पेज बनाकर पीने से शरीर में तंडक बनी रहती है और यह शुगर लेवल को भी काम करता है|मुनगा भाजी और कोदो खून साफ करता है|अधिक जानकारी के लिए संपर्क नंबर@

Posted on: Jan 17, 2022. Tags: AGRICULTURE BASTANAR BASTAR CG HUNGI BIRGALI INFORMATION KALAPARA

जैविक खाद से ही करते हैं खेती

ग्राम पंचायत चितापूर 2 (भंडाररास), दरभा, जिला-बस्तर (छत्तीसगढ़) से सुभाष कश्यप जी जैविक खेती के बारे में बता रहे हैं इस प्रकार की खेती में इन्होंने जैविक खाद में गोबर, केचुआ खाद का उपयोग करते हैं|फसलों में ,धान, मड़ैया, भुट्टा, सरसों की की खेती जैविक खाद से ही करते हैं|जैविक खाद से जमीन भी ठीक रहती है और फसल भी अच्छी प्राप्त होती है|इनका कहना है की अभी रासायनिक खाद का मिलना भी मुश्किल हो रहा है|इसलिए जैविक खाद घर पर भी तैयार कर खेतों में डाल सकते है|अधिक जानकारी के लिए संपर्क नंबर@ 7067219375.

Posted on: Jan 13, 2022. Tags: AGRICULTURE CG CHITAPUR DARBHA INFORMATION SUBHASH KASHYAP 2

उन्नत खेती श्री विधि से करने के लिए माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा प्रमाण पत्र मिला है

ग्राम पंचायत-चितापूर 2 (भंडाररास ) ब्लाक-दरभा, जिला-बस्तर (छत्तीसगढ़) से संतुराम जी बता रहे हैं उन्हें सरकार की और से उन्नत खेती श्री विधि से करने के लिए माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा प्रमाण पत्र मिला है| इनका कहना है की इन्हे ये प्रमाण पत्र जैविक कृषि करने के लिए दिया गया है जिसमे इन्होंने सिर्फ गोबर खाद का उपयोग करके इस उन्नत खेती किया है|इन्होंने राशायनिक खाद का उपयोग नहीं करते हैं|अधिक जानकारी के लिए दिए नंबर पर संपर्क कर सकते हैं|
संपर्क नंबर@7067219375.

Posted on: Jan 12, 2022. Tags: AGRICULTURE BASTAR BHANDARRASH CG DARBHA INFORMATION SANTURAM CHITAPUR 2

धान की खेती की जानकारी

ग्राम पंचायत छिंदबहार (बास्तामुंडा),ब्लाक-दरभा, जिला-बस्तर (छत्तीसगढ़) से रामसिंग कश्यप जी सीजी नेट के साथियों को बता रहे है ये बरसात के मौसम में ही खेती करते हैं |खेती में धान के फसलों का ही खेती कर पाते हैं|सिचाई के अभाव में अन्य मौसम में खेती नहीं हो पाती है|बरसात मे धान को बोने के बाद बारिश के पानी का ही इंतजार होता है|फसल थोड़ी बड़ी होने बाद बियासी लगाते हैं और कुछ दिन के बाद निदाई का काम शुरू हो जाता है|फिर फसल काटने के बाद मिडाई कर धान को बेचते हैं या फिर खाते हैं|अधिक जानकारी के लिए संपर्क नंबर@ 7722884009, सरपंच@9406109547, सचिव@7087797876

Posted on: Jan 11, 2022. Tags: AGRICULTURE BASTAMUNDA CG CHINDBAHAR DARABHA RAMSING KASHYAP RISE

गाँव में जंगल के फलों से अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाते हैं...

मारी पारा, ग्राम-पंचायत-कुकुरपाल, जिला-कोंडागांव, (छत्तीसगढ़ ) निरंजन कश्यप, बता रहे हैं कि वे अपने गाँव में धान,मक्का,बाजरा, अरहर की खेती कर रहे हैं| जिससे उन्हें फायदा मिलता है| वे सभी जंगल के फल चार, तेंदू, भेलवा, इमली, आम आदि लाते हैं| वे अपने जरुरत के हिसाब से घर में रखते हैं| बाकी सभी दैनिक खर्च पूर्ति हेतु बजार में बेच देते हैं| जिससे उन्हें धन राशि कि प्राप्ति होती है| गर्मी के दिनों में खेती नही करते हैं क्योंकि उनके पास पानी और संसाधनों कि कमी है|

Posted on: Jan 09, 2022. Tags: AGRICULTURE BABULAL NETI FOREST STORY

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


YouTube Channel




Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download