करो भाई वृक्ष की रखवाली वृक्ष की महिमा बड़ी निराली...वृक्षों पर कविता -

ग्राम-बहादुरपुरा, तहसील-सतवा, जिला-देवास (मध्यप्रदेश) से तारा सिंह अवयाम एक कविता सुना रही है :
करो भाई वृक्ष की रखवाली-
वृक्ष की महिमा बड़ी निराली-
पानी से बहती मृदा को रोके-
वृक्षों से निकालने वाले-
प्राणी को रोगी न ठोके-
देता है हमे जीने के लिए प्राण वायु-
रक्षा करेंगे जब तक रहेंगी हमारी आयु...

Posted on: Apr 22, 2017. Tags: TARA SINGH AVAYAAM

मानव के दो अवगुण: दूसरों से ईर्ष्या और अपने आप को सर्वश्रेष्ठ मानकर अपने ही घमंड मे रहना...

ग्राम-बादरपुरा, तहसील-सतवास, जिला- देवास (मध्यप्रदेश) से तारा सिह आदिवासी समाज के बारेला समुदाय में जागरूकता व सुधार अभियान चला रहे है वे आज हमें मानव के गुण-अवगुण के बारे में बता रहे है. वे कहते हैं मानव के 2 अवगुण होते हैं, पहला तो जलने वाला मतलब, घृणा करने वाला, दूसरा है, फूलने वाला मनुष्य मतलब घमंड करने वाला। जलने वाला मनुष्य स्वयं की उन्नति करने के बजाय दूसरे की उन्नति से जलता है, घृणा करता है, वह स्वयं क्रोध में अपनी बुद्धि को नष्ट कर देता है| फूलने वाला मानव अपने आप को सर्वश्रेष्ठ मनाकर अपने ही घमंड मे रहता है और एक दिन ऐसा गिरता है कि किसी को मुह दिखाने लायक भी नही रहता है जैसे गुब्बारे में अगर आप ज्यादा हवा भर देंगे तो वह फट जायेगा | तारा सिंह@9165154105

Posted on: Feb 09, 2017. Tags: Tara Singh Awaya

तीन ही रंग के तिरंगवा झंडा उड़े आसमान...देशभक्ति गीत

ग्राम-चंदौरा थाना-चंगेली,जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से तारा सिंह देशभक्ति गीत सुना रहे है:
तीन ही रंग के तिरंगवा-
झंडा उड़े आसमान-
बीच ही बाटे एगो चक्कर के निशान-
उहे भारत के निशान-
गाँधी बाबा दिहले अजदिया-
भैया बहिन दिहले जान-
भगत सिंह के हो गईल साथिया-
बहिनी भइले कुरबान-
तब जाके देशवा आजाद भईले
लोगवा गायें राष्ट्रगान कान-
कांधे पर टाँग के बंदुकिया-
दुश्मन चली पाकिस्तान...

Posted on: Nov 22, 2016. Tags: TARA SINGH

भूख से बचने का सवाल भैया, भूख से बचने का सवाल है...भुखमरी गीत

ग्राम-बाधकपुरा, तहसील-सतवास, जिला-देवास, (म.प्र.) से तारा सिंह अवायाम एक गीत सुना रहे है जो भुखमरी पर आधारित हैं:
भूख से बचने का सवाल भैया-
भूख से बचने का सवाल है-
ये खाने का सवाल हैं भैया-
ये खाने का सवाल हैं-
ये रोने का सवाल हैं भैया
ये रोने का सवाल हैं...

Posted on: Nov 04, 2016. Tags: TARA SINGH AVAYAAM

नन्दी ने किना रे गौरी चली रे गौरी रे दौड़...भीली दीपावली गीत

ग्राम-बहादुरपुरा, तहसील-सतवा, जिला-देवास (म.प्र.) से तारा सिंह अवायाम एक भीली दीपावली गीत सुना रहे हैं :
नन्दी ने किना रे गौरी चली रे गौरी रे दौड़-
खेतो ने सीढी रे गौरी चली रे गौरी रे दौड़-

Posted on: Oct 27, 2016. Tags: TARA SINGH AVAYAAM