चलना है दूर मुसाफिर, काहे सोवे रे...गीत-

ग्राम-भेडागढ़, तहसील-पंडरिया, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से ऋतू नायक एक गीत सुना रही हैं :
चलना है दूर मुसाफिर, काहे सोवे रे-
चेत-अचेत नर सोच बावरे-
बहुत नींद मत सोवे रे-
काम-क्रोध-मद-लोभ में फंसकर-
उमरिया काहे खोवे रे-
चलना है दूर मुसाफिर, काहे सोवे रे...

Posted on: Jul 21, 2019. Tags: CG KABIRDHAM RITU NAYAK SONG

बस्तर के इलाके में माटी त्योहार के बाद ही आम खाने की परंपरा है-

ग्राम-नागलसर, विकासखण्ड-दरभा, जिला-बस्तर (छत्तीसगढ़) के लईकल नाग और मंगल साय माटी त्यौहार के बारे में बता रहे हैं| यह साल के एक बार आता है| उस त्योहार के बाद ही गांव में आम खाने की परंपरा है| वे कई पीढियों से उस त्योहार को मनाते आ रहे हैं| त्योहार को पूजा पाठ कर मनाते है| यह बस्तर का एक पारंपरिक त्योहार है|

Posted on: May 12, 2019. Tags: BASTAR CELEBRATION CG RAJU RANA RITUAL STORY

कभी राम बन के कभी श्याम बन के चले आना...भजन गीत-

ग्राम पंचायत-करोटी, विकासखण्ड-ओडगी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से ऋतू सिंह और सुमित्रा एक समूह गीत सुना रही हैं:
कभी राम बन के कभी श्याम बन के चले आना-
प्रभु जी चले आना-
तुम राम रूप में आना-
सीता सांथ लेकर धनुष हांथ लेकर चले आना-
प्रभु जी चले आना...

Posted on: Feb 26, 2019. Tags: CG OGDI RITU SINGH SONG SURAJPUR

एक बच्चे और अध्यापक के किरदार के माध्यम से चुटकुला-

ग्राम-नंदावल, प्रखण्ड-चैनपुर, जिला-गुमला (झारखण्ड) से ऋतु एक्का, पुनीता मिंज, कृष्ण एक्का और नमिता एक्का एक चुटकुला सुना रहे हैं :
अध्यापक : अच्छा पिंकू मान लो मैंने तुम्हे 10 लड्डू दिए-
बच्चा : क्या मान लूँ सर आपने तो मुझे एक भी लड्डू नही दिए-
अध्यापक : मान लो तेरे बाप का क्या जाता है (बच्चे ने मान लिया)-
बच्चा : ठीक है सर-
अध्यापक : अब 10 में से 5 वापस ले लिए अब तुम्हारे पास कितने बचे-
बच्चा : 20
अध्यापक : वो कैसे ? – बच्चा : मान ले तेरे बाप का क्या जाता है...

Posted on: Jul 19, 2018. Tags: JHARKHAND PINITA MINZ RITU EKKA

जौहर-जौहर मोरे गौरा गौरी...छत्तीसगढ़ी गीत -

ग्राम-केवटी, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से रितुराज एक छत्तीसगढ़ी गीत सुना रहे है:
जौहर-जौहर मोरे गौरा गौरी-
वो सेवरिया गाऊं मैं तो-
जौहर-जौहर मोरे पनकी पनोरिया-
वो सेवरिया गाऊं मैं तो-
हन्हीन बनके मैं कनिह कटाए-
वो दिल्रुप्यान की हंसा-
बितने में बाजे ढोल ढमौवा-
बैरी में बाजे हे नंगा-
जौहर-जौहर मोरे गौरा गौरी...

Posted on: Dec 05, 2017. Tags: RITURAJ KANKER

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download