हमारे गाँव का नाम डुमरकोट कैसे पड़ा: एक गाँव की कहानी

सीजीनेट जन पत्रकारिता यात्रा के दौरान ग्राम-डूमरकोट, पंचायत-भैंसासुर, तहसील-अंतागढ़, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से गांव के निवासी प्रेम सिंह मंडावी, दिलीप कुमार बघेल और अनूप मंडावी अंकित पडवार को उनके गांव के नाम के पीछे क्या कहानी है, इसका नाम डूमरकोट कैसे पड़ा, बता रहे हैं उनका कहना है हमारे गांव में कई वर्ष पहले डुमर के बहुत सारे पेड़ थे, डुमर एक फल होता है जो मीठा होता है, उसे खाते है, पेज भी बना कर पीते हैं, ये 12 महीने लगता है, उसी को देखकर पूर्वजो ने गांव का नाम डुमरकोट रखा और आज भी उसी नाम से जाना जाता है| अंकित पडवार@9993697650.

Posted on: Jun 21, 2018. Tags: PREM SINGH MANDAAVI DILIP KUMAR BAGHEL

झन्डा मोरो झंडा-झंडा रे, मोला बड़ा नेक लागे रे...राष्ट्रभक्ति गीत

ग्राम-ताराडांड, जिला-अनूपपुर मध्यप्रदेश से प्रेम सिंह एक राष्ट्रभक्ति गीत सुना रहे हैं:
झन्डा मोरो झंडा-झंडा रे, मोला बड़ा नेक लागे रे-
झंडा मोरे लहर-लहराये, मोला बड़ा नेक लागे रे-
तीन रंग के झंडा मोला बड़ा सुहाना लागे रे-
झन्डा मोरो झंडा-झंडा रे...

Posted on: Jan 13, 2017. Tags: PREM SINGH

Transformer broke a week back, farmers suffering, no response from officers...

Prem Singh Khedekar is calling from Kanad village of Bagli Tehsil, Dewas district in Madhya Pradesh and says their transformer broke down a week ago but none from Electricity board has visited for repairs even after repeated requests. Due to break down village is in dark and farmers are suffering. This transformer broke earlier too and was repaired after 2 weeks. You are requested to call Electricity Dept@8989984395 to help suffering farmers. Prem Singh Khedekar@9981482658.

Posted on: Mar 22, 2015. Tags: Prem Singh Khedekar

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download