गोंडी को संविधान की 8वीं अनुसूची में शामिल करने से मध्य भारत में शान्ति लाने मदद मिलेगी...

उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़ ) से नेमा लाल कुमरा बता रहे हैं कि गोंडी क्षेत्रों ने अब गोंडी भाषा में शिक्षण का काम होना चाहिए. दिल्ली में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में मध्यभारत में सात राज्य के 80 गोंड आदिवासी एक सप्ताह में 4 साल तक चल रही डिक्शनरी को मानक शब्द चुन लिए हैं उस कार्यक्रम मे तेलंगाना के साथी ने गोंडी भाषा में जो बताया उसको मध्यप्रदेश के गुलजार सिंह मरकाम ने हिंदी भाषा में अनुवाद किया | इस प्रकार एक दूसरे राज्य के गोंडी भाषी आपस में बात करने लगे हैं. अब इसे भारत के सविधान 8 वींअनुसूची में शामिल करने की जरुरत हैं| इसको सरकार जल्दी से जल्दी लागू करे, इससे मध्य भारत में सुख शान्ति आयेगी |

Posted on: May 22, 2018. Tags: NEMALAL KOMRA

Graveyard in our village encroached, officers don't take action against culprits...

Nemalal Komra is calling from Medo village in Antagarh block in Kanker district under North Bastar, Chhattisgarh and talking to Sarpanch and villagers who went to lodge a complaint to Gram Suraj that graveyard in their village has been encroached by some people and there is no place for cremation. They had complained to the officials but no action has been taken so far. You are requested to call Collector@9424203999 to help suffering villagers. Nemalal Komra@7587250715.

Posted on: May 01, 2015. Tags: Nemalal Komra

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download