कर्तिक बाबा मर गयेला रे आदिवासी टुवर भेला...आदिवासी गीत

ग्राम-किर्तोटोला, ग्राम पंचायत-बेंदोरा, प्रखंड-चैनपुर, जिला-गुमला (झारखंड) से मीना तिर्की एक लोकगीत सुना रही है जिसमे “कार्तिक बाबा” जो एक आदिवासी थे उनके बारे में है जिनके मरने से आदिवासी अनाथ हो गये, अगर वो होते तो उनका प्रदेश झारखण्ड आजाद हो जाता:
कर्तिक बाबा मर गयेला रे-
आदिवासी टुवर भेला-
चला सेवा नान तोरा-
जीनुमी बीरो नम्यरा जी सुंदर माँ-
नोका नामे देश सुन्दर मानो-
कर्तिक बाबा मर गयल रे...

Posted on: Jul 22, 2018. Tags: GUMLA JHARKHAND MEENA TIRKI SONG