हांथी आया झूम के धरती माँ को चूम के...बाल कविता

बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से लाला मंजुला एक कविता सुना रही हैं :
हांथी आया झूम के धरती माँ को चूम के-
टांगें इसके मोटी है आँखें इसकी छोटी है-
खाना पत्ति खाती है लंबे सूंढ़ हिलाती है-
सुप्पा जैसे इसके कान देखो देखो इसके शान...

Posted on: Mar 17, 2018. Tags: LALA MANJULA

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download