चल पुटू बिने जाबो गोया किसिम-किसिम के पुटू फुटथे...छत्तीसगढ़ी कविता

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पड़ियारी एक छत्तीसगढ़ कविता सुना रहे हैं :
चल पुटू बिने जाबो गोया किसिम-किसिम के पुटू फुटथे-
खोजी बिनी ले आबो गोया चल पुटू बिने जाबो-
गिरे हवे पानी भीगे हवे टिकरा फुटत हवे पुटू-
खोजी बिनी ले आबो चल पुटू बिने जबों-
गोहिया पुटू चिरकों पुटू सुवा मुंडा पटियारी-
चल पुटू बिने जाबो गोया किसिम-किसिम के पुटू फुटथे...

Posted on: Aug 17, 2018. Tags: CHHATTISGARHI POEM KANHAIYALAL PADIHAYARI RAIGARH