घर में बाते एकांत, मै रटने लगा डार्विन का सिद्धांत...व्यंग्य

ग्राम-सर्नाड़ी, जिला-बलरामपुर (छत्तीसगढ़) से जसवंत सिंह एक व्यंग्य कविता सुना रहे है:
घर में बाते एकांत, मै रटने लगा डार्विन का सिद्धांत
क्या हमारे पूर्वज बन्दर थे और जब मै रट रहा था तो पिताजी अन्दर थे-
वे आए और चिल्लाए क्या करता है, पूर्वज को बन्दर कहता है-
सोचा था पढेगा लिखेगा बाप दादों का नाम रोशन करेगा-
नाम रोशन तो दूर उलटे बता रहा उनको लंगूर-
पिताजी ने एक खींच के हाँथ दिया मैंने डार्विन साहब को याद किया-
कि आप तो मर गए मेरी जान को मुसीबत कर गए...

Posted on: Sep 19, 2016. Tags: Jaswant Singh

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download