कैसे भूल पाउंगी मै बाबा, सुनी जो तुमसे कहानियां...लोकगीत

जिला-जोंनपुर, (उत्तरप्रदेश) से अब्दुल एक लोकगीत सुना रहे हैं-
बाबुल जो तुमने सिखाया, जो तुमसे पाया-
सजन घर मै चली-
कैसे भूल पाउंगी मै बाबा, सुनी जो तुमसे कहानियां-
छोड़ चली आंगन में मैया, बचपन के निशानियाँ-
ओ मेरी प्यारी बहना सजाये रहना ए बाबुल की गली... (184124) MS

Posted on: Jan 20, 2021. Tags: FOLK SONG

राम जी से पूछे जनकपुर के नारी...लोकगीत-

ग्राम-मानापति, पोस्ट-हठापुर, थाना-बासोपति, जिला-मधुबनी (बिहार) दीपक कुमार एक
भोजपुरी लोकगीत सुना रहे हैं:
राम जी से पूछे जनकपुर के नारी-
बतादा बाबुवा-
लोगवा देत काहे गारी बतादा बाबुवा-
ये बूढा बाबा के पकल पकल दाढ़ी...
अपने गीत संदेशो को रिकॉर्ड करने के लिये 08050068000 पर मिस्ड कॉल कर सकते हैं| (AR)

Posted on: Jan 03, 2021. Tags: FOLK SONG

शरण में जीवन जो बिताऊ ने- शरण मा तोरे आओ ने...लोक गीत-

सीजीनेट के साथी प्रदीप रैदास एक बुंदेली लोकगीत सुना रहे हैं:
शरण में जीवन जो बिताऊ ने-
शरण मा तोरे आओ ने-
कृपा बस अपनी मईया की चाऊ ने-
शारदा भवानी तुम हो माँ शेरा वाली-
तुमी मात वैष्णो हो शारदा हो काली-
आशा लगी है मईया, आशा न तोडियो-
जग रूठे मईया मोरी तुम न माँ रुथियो...

Posted on: Apr 15, 2019. Tags: FOLK PRADIP RAIDAS SONG