रोपा के लिए हाईब्रेड प्रमाणित बीज लाते हैं,लेई धान पुराने बीज बोते हैं,बियासी करने पर अच्छा हो�

ग्राम-बाकुलवाही ब्लॉक-छिन्द्गढ़ जिला-सुकमा (छत्तीसगढ़) से राजेन्द्र कुमार हमारे सीजीनेट सुनने वाले श्रोताओं को अपने खेती के बारे में बता रहे हैं कि अभी बरसात के समय धान कि खेती करेंगे रोपा और लेई धान बोते है लेई धान घर का पुराना बीज बोते है और रोपा के लिए क्रषि विभाग से हाईब्रेड प्रमाणित बीज लाते हैं लेई धान बोने के बाद जोताई करके बियासी करना पड़ता है जिससे पेड़ कि दुरी बन जाता है और ज्यादा मात्रा में होता है रोपा एक बार लगाने से हो जाता है रोपा लगाने से लेई धान से थोड़ा ज्यादा फसल होता है धान में गोबर खाद्य और कुछ डीएपी खाद्य डालते हैं जिससे धान पेड़ कि मोटापा बढ़ जाता है जमीन का उर्जा शक्ती और नमी बनी रहती है यूरिया डालने से जमीन को टाईट कर देता है इसलिए नहीं डालते और धान खाने के लिए भरपूर मात्रा में हो जाता है कुछ बेच भी देते हैं थोड़ा बहुत सब्जी लगा लेते हैं इसी से परिवार का पालन-पोषण करते हैं:संपर्क नंबर @7587788085 CS

Posted on: Jun 25, 2020. Tags: AGRICULTURE CHHIDGARH SUKMA CG RAJENDR KUMAR