निमिया के डाढ़ी मईया डालेली असनवा की झुमी झुमी न...भोजपुरी देवी गीत

अनीता कुमारी भोजपुरी भाषा में एक देवी गीत सुना रही हैं:
निमिया के डाढ़ी मईया डालेली असनवा की झुमी झुमी न-
मइया झुलेली झुलनवा की झुमी झुमी ना-
सातो रे बहिनिया के भैरो हवे भईया-
आदि शक्ति देवी के अनेक बाटे नईया-
जेकरा सहारा नइखे राखेली शरनवां की झुमी झुमी ना-
कामरुप कमख्याय कलकत्ता वाली काली-
मइहर में शारदा विन्धयाचल विन्धवाली-
कश्मीर में वैष्णो देवी जानेली जहनवाँ की झुमी झुमी ना-
भक्त करे दर्शनवा की झुमी झुमी ना...

Posted on: Oct 07, 2016. Tags: ANITA KUMARI

कथी के कघही शितल मईया : देवी गीत...

अनीता कुमारी एक देवी गीत सुना रहीं है:
कथी के कंगही शितल मइया कथी के लागल हो तार-
कथिये बइठल शितल मइया झारि लामी हो केश-
टूटी गेलइ कंगही शितल मइया मुड़ी गेलइ हो तार-
झटकत जाली शितल मइया सोनरा के दुकान-
हाथ तोरा टूटतइ रे सोनरा जवानी लागे हो घुन-
जौना हाथे गढ़ले रे सोनरा ककहिया केश हो तार-
रोवली सोनरा के मइया माता के हो दुआर-
ऐमकी गुनहिया शितल मइया बक्शीश हो हमार-
फिरु से गढ़ाएब हो मइया ककहिया केश हो तार...

Posted on: Oct 06, 2016. Tags: ANITA KUMARI

मइया हे सुनीयउ हमर विपतीया मा हम कोना रहबई गे...देवी गीत

अनीता कुमारी ,मालीघाट, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से देवी गीत सुना रही हैं:
मइया हे सुनीयउ हमर विपतीया माँ हम कोना रहबई गे-
कोना रहबई हे मइया कोना रहबई हे मइया-
निर्धन अज्ञान बनएलो कनियो न ज्ञान नै देलो-
माँ हम कतरा कहबइ हे-
घर नै दुआर देलो मइया ,दुःख अब सहलै न जाइले-
माँ हमर संकट हरियो ना-
जग सौ ठुकराएल गेल छी ,शरण अही के आएल छी-
कनियो न दया दिखइयो न-
मइया हे आपन भक्त जनन पर कनियो त दया दिखइयउ ना...

Posted on: Oct 04, 2016. Tags: ANITA KUMARI

आइल पंचायत के चुनउआ हे सखी गावा ना गीतिया...पंचायत चुनाव पर गीत

ग्राम-मालीघाट,जिला-मुजफ्फरपुर, बिहार से अनीता कुमारी बिहार में पंचायत चुनाव में महिलाओं की सशक्त भागीदारी की उम्मीद में एक गीत प्रस्तुत कर रही हैं:
आइल पंचायत के चुनउआ हे सखी गावा ना गीतिया-
गीतिया में तोहूं बता द इ बतिया पंचायत में औरत के का बाटे नीतिया-
आरक्षण के मतलब बता द हे सखी गावा न गीतिया-
गउआं के महिला काहें बाड़ी पीछे पंचायत में ओनका के केहू नाहीं पूछे-
अरे महिला समाज के जगावा हे सखी गावा ना गीतिया...

Posted on: Feb 17, 2016. Tags: ANITA KUMARI

चला हो काका चला हो भइया, हाथ से हाथ मिलाइके...स्वच्छता जागरूकता गीत

‘गाँव-जवार’ सांस्कृतिक संगठन, मुजफ्फरपुर, बिहार से अनीता कुमारी “स्वच्छता अभियान” पर एक गीत प्रस्तुत कर रही हैं:
चला हो काका चला हो भइया, हाथ से हाथ मिलाइके-
दुनिया जाने तू भी जान, महिमा साफ़-सफाई के-
तन से स्वस्थ रहे त मनवा मोर मयूर सा नाचेला-
जीवन से भागे अंधियारा जगमग ज्योति जलावेला-
रोग-ब्याध सब दूर रहेला, बचबू जग के हंसाई से-
दुनिया जाने तू भी जान, महिमा साफ़-सफाई के-
डायरिया-मलेरिया-पेचिस के भूत ना आई जानिके-
आस-पास के मिलिके बनावा साफ़-सफाई पानी के-
महकी जीवन की बगिया भी मूल्य जो जनबू सफाई के-
दुनिया जाने तू भी जान, महिमा साफ़-सफाई के...

Posted on: Jan 28, 2016. Tags: ANITA KUMARI

« View Newer Reports

View Older Reports »