समाजवाद- एक कविता|

ग्राम-देवरी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से कैलास सिंह पोया एक समाजवाद पे एक कविता सुना रहे हैं :
समाज वाद बबुआ धीरे धीरे आयी,
अरे हाथी में आयी, घोरा में आयी,
अंग्रेजी बाजा बाजे, धीरे धीरे आयी,
अंधी से आयी, गाँधी से आयी,
बिरला के घर में समायी, समाजवाद बबुआ,
नौखा से आयी, धोखा से आयी...

Posted on: May 16, 2019. Tags: CG KAILASH SINGH POYA POEM SURAJPUR

हम मेहनतकस जग वाले से जब अपना हिस्सा मांगेंगे...कविता-

ग्राम-देवरी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से कैलास सिंह पोया एक कविता सुना रहे हैं :
हम मेहनतकस जग वाले से जब अपना हिस्सा मांगेंगे-
एक खेत नहीं एक देश नहीं, हम सारी दुनिया मांगेंगे-
यहां पर्वत-पर्वत हीरे हैं, यह सागर सागर मोती हैं-
यह सारा मान हमारा है, हम सारा खजाना मांगेंगे-
हम मेहनतकस वाले थे, जब अपना हिस्सा मांगेंगे-
हम मेहनतकस जग वाले से जब अपना हिस्सा मांगेंगे...

Posted on: May 09, 2019. Tags: CG KAILASH SINGH POYA POEM SURAJPUR

निवासी रूपलाल मरावी नाटक, गीत, संगीत में रूचि रखते हैं, और बासुरी बजाते है-

ग्राम-धुमाडांड, भगत पारा, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से रूपलाल मरावी सीजीनेट के साथियों को बासुरी की धुन सुना रहे हैं| वे अपने आस पास के इलाको में जहां भी काम करने अवसर मिलता है| वहां जाकर बासुरी बजाते हैं| इसके साथ ही वे नाटक, संगीत में रूचि रखते हैं|

Posted on: May 08, 2019. Tags: CG MUSIC ROOPLAL MARAVI SURAJPUR

हमारे घर तक लाईट नहीं पहुंचा है, आवेदन करते हैं, लेकिन अधिकारी ध्यान नहीं देते...मदद की अपील-

ग्राम-नीलकंठपुर, पंचायत-गोरगी, ब्लाक-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से जगदेव प्रसाद पोया बता रहे हैं| वार्ड क्रमांक 9 के 3 घरों तक लाइट नहीं पहुंचा है| उन्होंने सरपंच से आवेदन किया| लाइन मैन के पास भी आवेदन किया| लेकिन कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं| लाइनमैन का कहना है| खम्बा काफी लगेगा, इसलिए लाइट नहीं लगाया जा सकता |लाइट नहीं होने के कारण सिंचाई की समस्या होती है| अंधेरा जंगली हाथियों का खतरा रहता है| इसलिये वे सीजीनेट के साथियों से अपील कर रहे हैं| कि दिये गये नंबरों पर बात कर बिजली की समस्या को हल कराने में मदद करें: विद्युत विभाग@9575244349, लाइन मैन@6262047890 सरपंच@9111234251. संपर्क नंबर@6262119523.

Posted on: May 07, 2019. Tags: CG ELECTRICITY JAGDEV PRASAD POYA PROBLEM SURAJPUR

उठो साथी आज चले हम मुक्त कराने देश को...कविता-

ग्राम-देवरी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से कैलास सिंह पोया एक कविता सुना रहे हैं :
उठो साथी आज चले हम मुक्त कराने देश को-
सदियों से गुलाम आज तक अपने प्यारे देश को-
देखो बिरला टाटा, बाटा दो, कहते रोज-रोज का घाटा दो-
अपने घर के भरे तिजोरी, भेज माल विदेश को-
उठो साथी आज चले हम मुक्त कराने देश को-
देखो जाती धर्म का घेरा, देखो दलाल का फेरा...

Posted on: May 06, 2019. Tags: CG KAILASH SHINGH POYA POEM SURAJPUR

« View Newer Reports

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download