कुर्सी के चक्कर में भईया न आना...कविता

सोनाली राजपूत ग्राम-रामपुर,विकासखंड-ढीमरखेड़ा,जिला-कटनी, मध्यप्रदेश से एक कविता सुना रही है:
कुर्सी न होती तो किस्से न होते-
मेरे देश के इतने हिस्से न होते-
कुर्सी न होती तो ईमान न होता-
आज कोई आदमी बेईमान न होता-
कुर्सी न होती तो दंगे न होते-
लीडर कभी भिखमंगे न होते-
कुर्सी ने भाई से भाई लड़ाए-
कहीं रात-दिन सबने आंसू बहाए-
बड़ा ही सरल है ये कुर्सी का धंधा-
मगर सुनने पर है गले का फंदा-
पते की बात यह सबको बताना-
कुर्सी के चक्कर में भईया न आना...

Posted on: Nov 26, 2016. Tags: SONALI RAJPUT

अपने माँ-बाप का दिल न दुखा-दिल न दुखा...गीत

सोनाली राजपूत ग्राम-रामपुर,विकासखंड-ढीमरखेड़ा, जिला-कटनी, मध्यप्रदेश से एक गीत सुना रही है:
अपने माँ-बाप का तू दिल न दुखा-दिल न दुखा-
मेरे आका मेरे मौला मेरे मालिक ने कहा-
बाप के प्यार से अच्छी कोई दौलत क्या है-
माँ का आँचल जो सलामत है तो जन्नत क्या है-
ये जो राजी हैं तो राजी है खुदा-
तेरे माँ-बाप ने शादी भी रचाई तेरी-
इस कदर धूम से बरात सजाई तेरी-
तूने इस अहसान के बदले में उन्हें कुछ न दिया-
अपने माँ-बाप का दिल न दुखा...

Posted on: Nov 15, 2016. Tags: SONALI RAJPUT

लूटी गुलशन की कलियाँ तोड़ न जा रे नूर को बैठी...हिन्दी गीत

ग्राम-रामपुर, तहसील-ढीमरगढ़, जिला-कटनी (म.प्र.) से सोनाली राजपूत एक गीत सुना रही हैं:
लूटी गुलशन की कलियाँ तोड़ न जा रे नूर को बैठी-
घटाओ की स्याही में सितारे नूर को बैठी-
नदी की धार जब सुखी माजी हो गई बेबस-
घुटरते सो के दरिया किनारे नूर को बैठी-
लूटी गुलशन की कलियाँ तोड़ न...

Posted on: Sep 08, 2016. Tags: SONALI RAJPUT

मेरी लगी गुरू संग प्रीत कि दुनिया क्या जाने...भक्ति गीत

सोनाली राजपूत ग्राम-रामपुर, जिला-कटनी, मध्यप्रदेश से एक गीत सुना रही है-
मेरी लगी गुरू संग प्रीत कि दुनिया क्या जाने-
जब गुरुवर ने बाज लगायी-
पलट गया पासा मेरे भाई-
हो गयी हार से जीत-
मेरी लगी गुरू संग प्रीत...

Posted on: Jul 05, 2016. Tags: SONALI RAJPUT

लहराएगा आज तिरंगा बोल रहा है सारा वतन...देशभक्ति गीत

सोनाली राजपूत ,ग्राम-रामपुर,विकासखंड-ढीमरखेड़ा,जिला-कटनी,मध्यप्रदेश से एक राष्ट्रीय गीत सुना रही हैं:
लहराएगा आज तिरंगा बोल रहा है सारा वतन-
अपनी जमीं अपना अम्बर है-
बढ़ते चलो सर बांधे कफ़न-
वृक्षों के डाल-डाल से आती यही आवाज है-
जातों में न तो भेद है-
अपना यही समाज है-
नीले गगन में लहराया है-
नीले गगन में लहराएगा-
लहराएगा आज तिरंगा...

Posted on: Jun 26, 2016. Tags: SONALI RAJPUT

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download