फसल कटी खुशबु आसमान, सबके घर में हुआ अनाज...बाल कविताएं

किलकारी बालकेंद्र मुजफ्फरपुर (बिहार) से शशी कुमारी एक कविता सुना रही हैं:
फसल कटी खुशबू आसमान,सबके घर में हुआ अनाज-
इसमें कोई भेद नहीं इसको कोई खेद नहीं-
खुद पूजा करे या पढ़े नमाज, सब कोई खाता यही अनाज...
2
एक था राजा का बेटा, दो दिन बिछावन पर लेटा-
तीन डॉक्टर दौड़े आये, चार दवा की पुडिया लाये-
पांच मिनट उसको समझाए, छः छः घंटे बाद पिलाये-
सातवे दिन वे आँखे खोले, आठवे दिन माता से बोले-
नवे दिन कुछ हिम्मत आई, यही तो गिनती सीख लो भाई...

Posted on: May 29, 2016. Tags: SHASHI KUMARI

काहे कहे रे बाबू जी दुरंग नीतिया...बेटा-बेटी भेदभाव गीत

किलकारी बाल केंद्र जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से शशि कुमारी लड़का-लड़की के बीच भेदभाव पर एक गीत सुना रही हैं:
काहे कहे रे बाबू जी दुरंग नीतिया-
बेटा के जन्म पर तू वर भैया-
हमारी बेटिया काहे कहे बाबू जी...
बेटा के खेलावे खातिर-
मोटर से गरिया हमारी बेरिया-
काहे कहे रे बाबू जी-
बेटे को पढाई खातिर भेजे इस्कूलवा
काहे आंसू बहावन हमार बेटिया...

Posted on: May 15, 2016. Tags: SHASHI KUMARI

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download