रे मकइया रे तोर गुनवा गवलो ना जाला.....भोजपुरी किसानी गीत

ग्राम-सारंगपुर, जिला-बलरामपुर, छत्तीसगढ़ से नन्दलाल सिंह भोजपुरी में एक गीत प्रस्तुत कर रहे हैं, गीत खेती-किसानी पर आधारित है:
रे मकइया रे तोर गुनवा गवलो ना जाला-
आगे-आगे हर चले पीछे ले बुनाला-
तेकर पीछे पता चले जमते कोड़ाला-
रे मकइया रे तोर गुनवा गवलो ना जाला...

Posted on: Jan 02, 2016. Tags: RESHMI NAGVANSHI

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download