नारद ने दिया है न पैगम्बर ने दिया है...राष्ट्रीय गीत

ग्राम-गढ़वय, पोस्ट-मधरी, थाना-पनवार, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से रीता देवी साकेत एक राष्ट्रीय गीत सुना रही हैं:
नारद ने दिया है न पैगम्बर ने दिया है-
जो कुछ भी दिया है वो अम्बेडकर ने दिया है-
पूजा किया था हमने तीरथ किया था हमने-
उन चारो धाम के इजदा किया था हमने-
अल्लाह के नाम से न भगने दिया है न
मुकद्दर ने दिया है जो कुछ भी दिया है...

Posted on: Jan 17, 2017. Tags: REETA DEVI SAKET

बांके बिहारी मुझको तेरा ही सहारा...बघेली लोकगीत

ग्राम-गढ़वय, पोस्ट-मधरी, थाना-पनवार, ब्लाक-जवा, तहसील-त्योंतर, जिला-रीवा (म.प्र.) से रीता देवी साकेत एक बघेली लोकगीत सुना रही हैं:
बांके बिहारी मुझको तेरा ही सहारा-
कहीं छुट जायें न दामन तुम्हारा-
तुम्हारे सिवा दिल में समाये न कोई – लगन का ये दीपक भुजाये न कोई-
तू ही मेरी कस्ती तू ही तू ही है किनारा
कहीं छुट जायें न दामन तुम्हारा-
बांके बिहारी मुझको तेरा ही सहारा...

Posted on: Oct 01, 2016. Tags: REETA DEVI SAKET

भवानी निराला माँ का रूप सोंढा-सोंढा...बघेली देवी लोकगीत

ग्राम-गढ़वय, पोस्ट-मधरी, थाना-पनवार, ब्लाक-जवा, तहसील-त्योंतर, जिला-रीवा (म.प्र.) से रीता देवी साकेत एक बघेली लोकगीत सुना रही हैं:
भवानी निराला माँ का रूप सोंढा-सोंढा-
जाये न खाली कोई माँ पे है भरोसा-
माते मैया जी के बेंदी भी सो हैं-
टिका मैया जी के मन हर साये-
भवानी निराला माँ का...

Posted on: Sep 29, 2016. Tags: REETA DEVI SAKET

सजनी अब तू नशबंदी अपनाई ल, दु:खी परिवार बा ना...सावन झूला गीत

रीता देवी साकेत ग्राम गढ़वय, पोस्ट-मधरी, थाना-पनवार, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से
सावन झूला गीत सुना रही हैं:
सजनी अब तू नशबंदी अपनाई ले दु:खी परिवार बा ना-
घर में एतना गदेल जैसे दसमी का मेला-
द्वार देखें जैसे मिर्जापुर बाज़ार बा दु:खी परिवार बा ना-
सजनी अब तू नशबंदी अपनाई ले दु:खी परिवार बा ना...

Posted on: Aug 17, 2016. Tags: REETA DEVI SAKET

यह भारत देश है मेरा जहाँ चिड़िया रैन बसेरा...देशभक्ति गीत

रीता देवी साकेत ग्राम-गढ़वय, पोस्ट-मधरी, थाना-पनवार, जिला-रीवा, (मध्यप्रदेश) से देशभक्ति गीत सुना रही हैं:
यह भारत देश हैं मेरा जहाँ चिड़िया रैन बसेरा-
सम्मान करें स्वाभिमान करें जा जा वहाँ हम मरे-
गगन मे झंडा लहराता रहे-
ये तीन रंग लहराये तिरंगा भारत का, भारत का हाँ भारत का-
बापू जी ने प्राण गंवाये, इस झंडे की लाज बचाये-
माता पिता की डोर की बेटा छोड़ चले.....
रानी लक्ष्मी बाई प्राण गंवाये, इस झंडे की लाज बचाये-
हाँ वो माता पिता की डोर की बेटी छोड़ चली-
भगत सिंह ने प्राण गंवाये, इस झंडे की लाज बचाये-
हाँ वो माता-पिता की डोर की बेटा छोड़ चले...

Posted on: Aug 11, 2016. Tags: REETA DEVI SAKET

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download