कोयल काली कौवा काला, काले होते सिर के बाल...बाल कविता

मालीघाट मुजफ्फरपुर (बिहार) से एक बच्चा जीतन लाल ठाकुर एक बाल कविता, रंगों की कविता सुना रहा है :
कोयल काली कौवा काला काले होते सिर के बाल-
लाल-लाल होते गाजर सुन्दर और होते तोते की चोच-
हरे-हरे है जंगल सारे और हरा होते है तोता-
गेंद पीले चंम्पा पीली पीले होते सरसों के फूल...

Posted on: Nov 11, 2016. Tags: Jeetanlal Thakur

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download