मूलवासी की आदिवासी लड़े, माम बिरसा न झण्डा बैसी...गोंडी गीत

ग्राम-करमबाट तहसील-पारसिनी,जिला-नागपुर (महाराष्ट्र ) से ज्योति काकोड़े एक गोंडी गीत गा रही हैं:
मूलवासी की आदिवासी-
लड़े माम बिरसा न झण्डा बैसी-
नार बिरसा मुंडा न याद किसी-
नार बिरसा मुंडा न याद किसी-
मूलवासी की आदिवासी...
कले अले उन्मा न धोखा अले सिमा गा-
कले अले उन्मा न धोखा अले सिमा-
अंग्रेज न नाडा ते लात इरसी-
मूलवासी की आदिवासी...

Posted on: Jun 10, 2015. Tags: JYOTI KAKODE