चाहते डूबल मनवा हम रोवत परनवा...भोजपुरी गीत-

राजा बैगा, जिला-उमरिया (मध्यप्रदेश) से भोजपुरी गीत सुना रहें है:
चाहते डूबल मनवा हम रोवत परनवा-
पल भर जुदाई में सौ बार मेरी नी-
हम तोहरा से कितना प्यार करले-
चाहते डूबल मनवा हम रोवत परनवा-
पल भर जुदाई में सौ बार मेरी नी-
चाहते डूबल मनवा हम रोवत परनवा...(182295) GT

Posted on: Dec 04, 2020. Tags: HINDI SONG

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा...देशभक्ति-

अंकुर कुमार पाठक, जिला-पुष्पनरायण (उत्तरप्रदेश) से देशभक्ति गीत सुना रहें है:
ऐ मेरे वतन के लोगों-
तुम खूब लगा लो नारा-
ये शुभ दिन है हम सब का-
लहरा लो तिरंगा प्यारा-
पर मत भूलो सीमा पर-
वीरों ने है प्राण गँवाए-
कुछ याद उन्हें भी कर लो-
जो लौट के घर न आये...(182208) GT

Posted on: Dec 04, 2020. Tags: HINDI SONG

अतिथि महोदय तुम्हीं नमन है सत सत अभिन्दन है...स्वागत गीत-

शिवभोला सिंह एक स्वागत गीत सुना रहें:
अतिथि महोदय तुम्हीं नमन है सत सत अभिन्दन है-
गीत जय माल है ये गीत जय माल है-
चाहें पा जी आरती उतारू श्रीमान की-
आयें हमारें येहा साक्षात् महा भगवान् जी-
कर ले स्वागत है शिव कार फिर यहा पधारों-
गीत जय माल है ये गीत जय माल है-
अतिथि महोदय तुम्हीं नमन है सत सत अभिन्दन है...(182214) GT

Posted on: Dec 04, 2020. Tags: HINDI SONG

कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं, बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा...भक्ति गीत-

अनमोल कुमार चन्द्राकर नया रायपुर छत्तीसगढ़ से एक भक्ति गीत सुना रहें है:
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं, बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा-
कभी गिरते हुए को उठाया नहीं, बाद आंसू बहाने से क्या फ़ायदा-
मैं तो मंदिर गया, पूजा आरती की, पूजा करते हुए यह ख़याल आ गया-
कभी माँ बाप की सेवा की ही नहीं, सिर्फ पूजा के करने से क्या फ़ायदा-
मैं तो सतसंग गया, गुरु वाणी सुनी, गुरु वाणी को सुन कर ख्याल आ गया-
जनम मानव का ले के दया ना करी, फिर मानव कहलाने से क्या फ़ायदा...(182213) GT

Posted on: Dec 04, 2020. Tags: HINDI SONG

हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं...देशभक्ति गीत

जिला-पूर्णियाँ (बिहार) भक्त प्रहलाद एक देशभक्ति गीत सुना रहे हैं:
हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं-
रंग-रूप, वेष-भूषा सब चाहे अनेक-
बेला, गुलाब, जूही,चंपा, चमेली-
प्यारे-प्यारे फूल गूंथे माला में एक हैं-
हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं-
रंग-रूप,वेष-भूषा सब चाहे अनेक है-
कोयल की कूक प्यारी, पपीहे की टेर की न्यारी...(182200) GT

Posted on: Dec 04, 2020. Tags: HINDI SONG

View Older Reports »