सांई इतना दीजिए, जामे कुटुंब समाय, मै भूखा ना रहू, साधू ना भूखा जाय...

ग्राम-सिंगपुर, तहसील-पंडरिया, जिला-कबीरधाम (छत्तीसगढ़) से हिमसिंह मरकाम तुलसीदास द्वारा रचित दोहा सुना रहे है:
तुलसी अपने राम को, रिज भजो या खीज-
भूमि पड़े उपजेगे, हो लेटे सीधे बिज-
सांई इतना दीजिए, जामे कुटुंब समाय-
मै भूखा ना रहू, साधू ना भूखा जाय-
ना खासिया, रामचन्द्र की जय-
पवन सूत, हनुमान की जय...

Posted on: Sep 22, 2017. Tags: HIM SINGH MARKAM