Our roads full of stones and dust, officers don't listen, Pls call them to help...

Gokaran Verma has reached Khamhariya village, tehsil Ghugri of Mandla district in Madhya Pradesh where villagers tell him that there is no good road in Markam Tola, Tikra Tola and Okra Tola mohallas of the village. Because of it people are facing a lot of difficulties. They have complained to officers and also in Panchayat many times but they don’t respond. You are requested to call collector@ 09425164003 and district CEO@ 09893169545 to help suffering adivasis. Verma@8989081092

Posted on: Nov 21, 2016. Tags: Gokaran Verma

हम लूट गएन सरकार तोहार भरे बीच दरबार...छत्तीसगढ़ी जनगीत

ग्राम-कामता, तहसील-नवागढ़, जिला-बेमेतरा, छत्तीसगढ़ से गोकरण वर्मा छत्तीसगढ़ी भाषा में एक गीत सुना रहे हैं:
हम लूट गएन सरकार तोहार भरे बीच दरबार-
खुल्लम-खुल्ला राज में तोरे होवै अनाचार-
रइहा-रइहा खबरदार हम लूट गएन-
चोर ले बांचेन पुलिस पकड़लेस ले लिस खना तलासी-
बड़ दिलदार दरोगा साहेब हितवा लागे खलासी-
जब जी चाहे तब घर आथे अउ थान्हा बोल्वाथे-
अउ चाह-पानी के चक्कर में उजरथे घर द्वार-
हम लूट गएन सरकार तोहार भरे बीच दरबार...

Posted on: Apr 06, 2016. Tags: GOKARAN VERMA

पानी जे गिरिहीं ते खेती करबे, पानी बिना सब सून....जल नियोजन पर गीत

ग्राम-कामता, तहसील-नवागढ़, जिला-बेमेतरा, छत्तीसगढ़ से गोकरण वर्मा जल नियोजन पर छत्तीसगढ़ी में एक गीत प्रस्तुत कर रहे हैं:
पानी बिना सब सून पानी बिना सब सून-
पानी जे गिरिहीं ते खेती करबे-
आघू का करबे तेला सोच रे भैया-
खेत भी बनि गए धुआं बगर गए-
जीव जंतु के नामे बुझा गए-
जंगल देखो तो सबै उजर गए-
नदी-नलवा घले सुखा गए-
हे बैठक करके गोंद...

Posted on: Mar 28, 2016. Tags: GOKARAN VERMA

करने दूर अंधेरा रे मानो कहना मोरा रे.... जागरूकता गीत

ग्राम- कामता, तहसील-नवागढ़, जिला-बेमेतरा, छत्तीसगढ़ से गोकरण वर्मा बघेली भाषा में एक गीत सुना रहे हैं:
करने दूर अंधेरा रे मानो कहना मोरा रे-
कोर्ट-कचहरी तहसीलन में कोऊ ना सुने हमारी-
बिन रिश्वत के काम ना करिहैं थानेदार-पटवारी-
करिहें हेरा-फेरा मानो कहना मोरा रे-
कितनी लूट करे अधिकारी शासन ध्यान न देता-
भइया शासन ध्यान न देता-
रिश्वत खाके मोटे हो रहें भ्रष्ट भये हैं नेता-
खाएं हलवा-पेड़ा रे मनो कहना मोरा रे...

Posted on: Mar 25, 2016. Tags: GOKARAN VERMA

डोगरी कोरकसा तेंदू, खइली बीड बुड़ बबू...स्थानीय गीत

ग्राम-कपिलदेवपुर, जिला-बलरामपुर, छत्तीसगढ़ से कुमारी नीलम खड़गवंशी स्थानीय भाषा में एक गीत प्रस्तुत कर रही हैं, गीत का सन्दर्भ यह है कि- रास्ते में जाते समय राही को तेंदू फल दिखता है और वह खा लेता है लेकिन तेंदू फल खाने के बाद उसे पानी नहीं मिलता, जिससे वह परेशान हो जाता है:
डोगरी कोरकसा तेंदू, खइली बीड बुड़ बबू-
ई डोगरी कोरकसा तेंदू-
खती में जल गिरी पियासे चाटाबर हियां...

Posted on: Jan 06, 2016. Tags: GOKARAN VERMA

« View Newer Reports

View Older Reports »