बंद खिड़कियों के पीछे से, बेटी ने पुकारा है...

बंद खिड़कियों के पीछे से, बेटी ने पुकारा है
आजादी हमको है प्यारी, आजादी ही नारा है
भइया खाए दूध-मलाई, हमको क्यों बासी बेकार
पालन-पोषण ममता में, हमको भी दे दो प्यार
बंद खिड़कियों के पीछे से.....
आज़ादी हमको है प्यारी, आज़ादी ही नारा है
भईया के संग मै भी पढ़ लूं, पढ़-लिख कर कुछ बन जाऊं
हमको क्यों वंचित रखा है, शिक्षा का दे दो अधिकार
बंद खिड़कियों के पीछे से.....
टीकाकरण स्वास्थ्य सेवाएं, हमको भी तो चाहिए
स्वास्थ्य बनेगा तभी बनेगा, सपना स्वस्थ समाज का
आजादी हमको है प्यारी, आजादी ही नारा है
आजादी ही नारा है......
आजादी ही नारा है.....

Posted on: Jul 23, 2014. Tags: Deep Nandini