ये जमी छाडिबा नाई, ये गां रे हटीबा नाईं...ओडिया संघर्ष गीत

ग्राम-कुचईपदर, ब्लॉक-काशीपुर, जिला-रायगडा, ओडिशा से चिभुवन मांझी एक स्वरचित गीत गा रहे हैं. गीत के माध्यम से जल-जंगल-जमीन की कंपनियों से रक्षा के लिए जनता से अपील किया जा रहा है :
ये जमी छाडिबा नाई, ये गां रे हटीबा नाईं – ये जमीं छाडिबा नाई रे भाई डोंगरो छाडिबा नाई – ये जमीं...
अरे विदेशी कंपनी आसिछी दाईन गा भांगीबा पाईं – जमीं-बाड़ी नेई कंपनी करीबो आमोको मारीबा पाईं – इंदल कंपनी आसिछी दाईन गा भांगीबा पाईं –
जमीं-बाड़ी नेई कंपनी करिबो आमोका मारीबा पाईं-
जमीं छाडी दिले होयरान हेवा बांचिते पारिबे नाई रे भाई डोंगरो छडिबा नाईं – गां छाडी दिले होयरान हेवा बांचिते पारिबे नाई रे भाई गां छडिबा नाईं...

Posted on: Jan 21, 2015. Tags: Chibhuwan Manjhi