शुभ की कसमे गंगा माँ के खाके हमने...गंगा गीत

भवचन्द्र पांडे भानु ग्राम-धवलपुर, प्रखंड-मोतीपुर, जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से गंगा नदी पर आधारित एक गीत सुना रहे हैं:
शुभ की कसमे गंगा माँ के खाके हमने-
गंगा जी के पानी को नाला बना दिया-
माँ गंगा का श्रृंगार रचाने के बदले-
आरती थाल की झूठी थाली बना दिया-
गंगा मैया के आँचल में हमने मैला डाला-
कूड़ा कड़कट सौ मल उचिष्ट गंदा पानी – संतानो की सेवा का यह आचरण देख-
है विलख रही हैं अपनी प्यारी माता रानी-
आशिष नहीं आह निकलती लहरो से-
माता का क्रंदन आहत करता उन दशको-
भारत की जागृति का प्रतिक अविरल गंगा-
भारत के संस्कृति का प्रतिक अविरल गंगा...

Posted on: Oct 14, 2016. Tags: BHAVCHANDRA PANDEY BHANU

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download