मन खुला-खुला फिरे जगत मा कैसे नाता रे...गीत-

अमृतलाल अहीर, तहसील-भरतपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से दोहा व गीत प्रस्तुत कर रहे है मन खुला-खुला फिरे जगत मा कैसे नाता रे, मन खुला-खुला फिरे जगत मा कैसे नाता रे,माता काही यह पूछे हमारी बहिन कहे रे भैया मेरे,
भई कहे यह भुजा हमारी, मन खुला-खुला फिरे जगत मा कैसे नाता रे,
पेट पकड़ के माता रौअइ 2 ,भाह पकड़ के भाई लपट-जपट के चिड़िया रोए हंस जाए अकेला, मन खुला-खुला फिरे जगत मा कैसे नाता रे, जब तक जीवय माता रोवईय बहन रोए दस मासा, तेरह दिन तक चिड़िया रोए फिर करे गरवास, जगत मा कैसे नाता रे,मन खुला-खुला फिरे जगत मा कैसे नाता रे|| संपर्क@9977741285.

Posted on: Nov 22, 2022. Tags: AMRITLAL AHIR SONG UTTRPRADES

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


YouTube Channel




Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download