पहले लोग कंद-मूल खाकर गुजारा करते थे, अब स्थिति सुधरी है पर मज़दूरी सही समय पर मिले तो अच्छा...

ग्राम-इतापडी पंचायत-आरेवाडा तहसील-भामरागड जिला-गडचिरोली (महाराष्ट्र) से देवजी पुंगाटी बता रहे है कि बचपन में उनका जीवन बहुत कष्टकारी था|जंगल से कंद मूल फल से ही पेट भरते थे, तेल, आनाज यह सब भी नही मिलता था |वह बहुत कठिन समय था वह समय निकल गया कपड़े भी पहनने ओड़ने को नहीं थे आने जाने का भी कोई साधन नही था| वह बता रहे है की अब समय पहले कि तुलना मे बहुत ठीक है ,चावल और कपड़ा मिलने लगा ,आने जाने के साधन भी हो गए है|लोकल में काम धंधा भी मिलता है जिससे घर चल जाता है |सरकारी काम भी मिलता है पर समय पर भुगतान नही होता है |यदि शासकीय कामो का भुगतान समय पर होने लगे तो बहुत सुविधा होती:संपर्क नंबर देवजी पूंगाटी @9420043818 (169665) CS

Posted on: Jun 17, 2020. Tags: BHAMRAGAD GADCHIROLI MH DEVJI PUNGATI FOREST