पहले लोग कंद-मूल खाकर गुजारा करते थे, अब स्थिति सुधरी है पर मज़दूरी सही समय पर मिले तो अच्छा...

ग्राम-इतापडी पंचायत-आरेवाडा तहसील-भामरागड जिला-गडचिरोली (महाराष्ट्र) से देवजी पुंगाटी बता रहे है कि बचपन में उनका जीवन बहुत कष्टकारी था|जंगल से कंद मूल फल से ही पेट भरते थे, तेल, आनाज यह सब भी नही मिलता था |वह बहुत कठिन समय था वह समय निकल गया कपड़े भी पहनने ओड़ने को नहीं थे आने जाने का भी कोई साधन नही था| वह बता रहे है की अब समय पहले कि तुलना मे बहुत ठीक है ,चावल और कपड़ा मिलने लगा ,आने जाने के साधन भी हो गए है|लोकल में काम धंधा भी मिलता है जिससे घर चल जाता है |सरकारी काम भी मिलता है पर समय पर भुगतान नही होता है |यदि शासकीय कामो का भुगतान समय पर होने लगे तो बहुत सुविधा होती:संपर्क नंबर देवजी पूंगाटी @9420043818 (169665) CS

Posted on: Jun 17, 2020. Tags: BHAMRAGAD GADCHIROLI MH DEVJI PUNGATI FOREST

अभी थोड़े दिन में बरसात में प्राकृतिक लॉकडाउन शुरू होगा जब हमारे गाँव पानी से घिर जाएंगे...

ग्राम-इत्ताबाडी गाम पंचायत-आर्यवाडा तालुका-भामरागड जिला-गडचिरोली महाराष्ट्र से देवजी पुंगाटी अपनी माड़िया गोंडी भाषा में बता रहे हैं कि अभी जो लॉकडाउन लगा है ये हमारे जीवन का हिस्सा है कैसा लॉकडाउन है सरकार जाने इससे जीवन में कोई ज्यादा फर्क नही पड़ा है पहले भी ऐसा ही जीवन था अभी भी ऐसा ही जीवन है पहले भी गाड़ी मोटर नहीं था अभी भी नहीं है गाँव में सड़क नहीं है गाँव के लोंग पैदल चलते थे अभी भी चलते हैं और हमारा गाँव चारो तरफ से नदियों से घिरा है बरसात के समय 4 महीने गाँव में ही रहना है कहीं जाना नहीं है यदि गाँव में कोई विपत्ति आ जाता है तो गाँव के लोग टोली बनाकर मरीज को जंगल के रास्ते से पैदल चलकर इलाज कराने ले जाते हैं तो अब प्रकृति का लॉकडाउन शुरू होने वाला है (169687)   CS

Posted on: Jun 15, 2020. Tags: BHAMRAGAD GADCHIROLI MH DEVJI PUNGATI FLOOD PROBLEM WATER

हमारे यहां जंगल में हर तरह के जानवर है, भालू लोंगो पर कई बार हमला किया है...(माड़िया में)

नगर पंचायत-भामरागड, जिला-गडचिरोली (महाराष्ट्र) से देवजी पुंगाटी माड़िया गोंडी भाषा में मोहन यादव को बता रहे है इनके यहाँ अभी भी बहुत भारी जंगल है जंगल में हर तरह के जानवर रहते है जिसमे से ज्यादा भालू लोंगो पर कई बार हमला किया है कई कई लोग भालू के हमले से मर चुके है लोग अकेले जंगल में जाने से डरते है यदि जंगल में जाते है तो लोग इकट्ठा होकर जाते है तभी कुछ ला पाते है किसी पर यदि हमला हो जाता है तो सरकार को जानकारी मिलने पर मुआवजा दे देता है इसलिए हमारे यहाँ जंगल अभी बचा हुआ है|(168495).CS

Posted on: Jun 05, 2020. Tags: BHAMRAGAD GADCHIROLI MH DEVJI PUNGATI FOREST GONDI MADIA

कोरोना आने पर हम आदिवासियों ने बेजुरी पहाड़ी में बावलाई सत्यवती देवी का पूजा किया...

नगर पंचायत भामरागड जिला गडचिरोली (महाराष्ट्र) से देवजी पुन्गाटी और नीलकंठ कोडापे बता रहे है कि हमारे यहाँ जब भी कोई विपत्ति या बीमारी आता है तो हमारे आस -पास के सभी गाँव के लोग चंदा इकठा करके हमारे यहाँ से 5 किलोमीटर दूर में बेजुरी पहाड़ी के बगल में बावलाई सत्यवती देवी का स्थान जाकर हमारे यहाँ कोई बीमारी ना आये करके मन्नत मागते है और जब नहीं आता तो मुर्गा ,बकरा नारियल अगरबत्ती चढ़ाकर पूजा करते है | इस बार कोरोना बीमारी आने के बाद भी किया सभी गाँव वालों ने | और वहां हर वर्ष फरवरी माह में 3 दिन का यात्रा होता है और ऐसा ही पूजा सुरजागढ़ पहाड़ी में भी करते हैं जहां पहाड़ में बहुत सारा लोहा है |(168490)

Posted on: May 28, 2020. Tags: BHAMRAGAD GADCHIROLI MH CORONA DEVJI PUNGATI NEELKANTH KODAPE

राजा वीर बाबूराव शेडमाके भामरागड के राजा की कहानी...(माडिया भाषा में)

नगर पंचायत भामरागड जिला गडचिरोली महाराष्ट्र से देवजी पुन्गाटी बता रहे है कि राजा वीर बाबूराव शेडमाके भामरागड के राजा थे, अभी भी उनके तलवार अहेरी में है उनका पूजापाठ किया जाता है | उसका कोई परिवार कुटुम्ब नहीं था वे अकेले ही थे भामरागड में उनका ही राज था | उसका राज जाने के बाद धर्माराव आतरम का राज आया तब सरकार का शासन बना ऐसा वे बता रहे है |

Posted on: May 27, 2020. Tags: BHAMRAGAD GADCHIROLI MH DEVJI PUNGATI STORY

View Older Reports »