जितना है उसी में संतुष्ट रहें...कहानी-

एक राजा था| उसे लोग जिन की कहानी सुनाया करते थे| कहानियां सुनकर उसे इच्छा हुई| वो भी जिन को प्राप्त करे| राजा ने कई लोगों से पूछा लेकिन कोई जवाब नहीं दे पाया| एक बार वो जंगल में शिकार करने जा रहा था| तभी उसे आवाज सुनाई दिया| वह चारो तरफ देखा, कोई नहीं दिखा| उसने देखा सामने एक बोतल पड़ी जिसमे से आवाज आ रही है| उसने राजा से पूछा तुम कहाँ जा रहे हो| राजा ने कहा मै जिन की तलास कर रहा हूँ| जिन बोला मै ही जिन हूँ| राजा बोला ये बोतल में क्या कर रहे हो| जिन बोला मुझे किसी ने बोतल में बंद कर दिया| मुझे बहार निकाल दोगे तो मै तुम्हारी सभी इच्छ पूरी कर दूंगा| राजा की मनोकामना पूरी हो गई| उसने जिन को बहार निकाल दिया| उसके बाद जिन बोला बताइये क्या करना, लेकिन उससे पहले मेरी एक शर्त है, कि आप हमेशा मुझे काम देते रहेंगे| नहीं तो मै आपके सबसे प्रिय को खा जाऊंगा| राजा ने एक-एक कर अपनी सारी इच्छा पूरी कर ली| फिर उसके पास कोई काम नहीं बचा| जिन बोला आज मुझे कोई काम नहीं दिये हो| इसलिये मै राजकुमार को खा जाऊंगा| राजा बोला रुको तुम इस डिबिया में चले जाओ| फिर मै तुम्हे और काम दूंगा| जिन डिबिया के अंदर गया| राजा ने उसे बंद कर दिया और समुंदर में फेकवा दिया|इसलिये कहा गया है, जितना है उसी में संतुष्ट रहें| सोनू गुप्ता@9838264308.

Posted on: Jul 01, 2019. Tags: SONU GUPTA STORY

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download