संग्रामी आमि, संग्रामी आमि, संग्राम करि जीबा...ओडिया संघर्ष गीत

चम्पकलता नायक उड़ीसा राज्य के सुंदरगढ़ जिले के बनई उपखंड से उड़िया भाषा में एक संघर्ष गीत गा रही हैं | गीत का अनुवाद- हम लोग संग्रामी हैं, संग्राम करेंगे. हमारे जीवन में भी संग्राम चल रहा है. इसी मिट्टी की रक्षा करने हेतु हम सब एकजुट होकर लड़ेंगे और और हम सब देश में शिल्पायन व विकास के नाम पर दलालों-साहूकारों द्वारा जो हमारे अधिकार छीने जा रहे हैं, उसके खिलाफ आवाज़ उठाएंगे:
संग्रामी आमे, संग्रामी आमे, संग्राम करि जीबा
संग्राम करि देश पाईंया में, जीवन को दइ देबा
संग्रामी आमा मोना, संग्रामी आमा जांणो
संग्रामी, संग्रामी, संग्राम करि जीबा
माट मार अरइ ख्यपाई, असक भउंडी भाई
शत्रु आजी माडिया सीची, जीवन को नोवा पाही
जागी उठो तुम आजी, तेजी उठो तुम आजी
एकाधि होई कि आमे आजी पूड़ी, संग्राम करि जीबा
संग्रामी आमे, संग्रामी आमे, संग्राम करि जीबा
संग्राम करि देश पाईंया में, जीवन को दे इ देबा
कुतस्य पायो नो नारे जो, नारे पुनि विकास चलन्ति आजी
अधिकार आमे छांडाइ निअन्ति, दोलाताऊ तरसाजी
जागी उठो तुम आजी, तेजी उठो तुम आजी
अधिकार आमे छांडाइ, निअन्ति दोलाताऊ तरसाजी
एकाधि होई कि आजी पुनि, संग्राम करि जीबा
संग्रामी आमे, संग्रामी आमे, संग्राम करि जीबा

Posted on: Aug 21, 2014. Tags: champaklata nayak