अड़बड़ मजा आथे, राम भजन मा भईया सुन तो लेना...भजन-

पोस्ट-चंद्रानी, जिला-डिंडोरी (मध्यप्रदेश) से विवेक कुमार अहिरवार एक गीत सुनवा रहे हैं:
अड़बड़ मजा आथे-
राम भजन मा भईया सुन तो लेना-
अकेला तन हर जाथे-
अकेला तन हर आथे , सुन तो लेना-
कहां पाबे मानुष तन फिर से दोबारा-
सुन तो ले ओ...

Posted on: Jul 20, 2020. Tags: DINDORI MP SONG VIVEK KUMAR

बापू हमरें स्वर्ग सिधारें छोड़ चलें हमें किसी की सहारें...गाना-

ग्राम-सरईमाल, पोस्ट-चन्द्ररानी, थाना-समनापुर, जिला-डिंडोरी (मध्यप्रदेश) से विवेक कुमार गांधीजीपर एक गाना सुना रहें है:
बापू हमरें स्वर्ग सिधारें छोड़ चलें हमें किसी की सहारें-
बापू जी का जन्म हुआ था सारी दुनियां रोने लगी थी-
बापू जी की गोली पड़ी थी, बापू जी की गोली पड़ी थी-
बापू जी लेजानें लगें थे सारी दुनियां रोने लगी थी-
बापू हमरें स्वर्ग सिधारें छोड़ चलें हमें किसी की सहारें-
बापू जी को जलानें लगे थे चन्दन की लकड़ी जलनें लगी थी...

Posted on: Nov 08, 2019. Tags: DINDAURI GANDHI VIVEK KUMAR

जगमग दीया जल उठे द्वार-द्वार चमकी दिवाली...गीत

विवेक कुमार अहिरवार, ग्राम सरईमाल, पोस्ट-चांदवानी, जिला-डिंडोरी (म.प्र.) से एक गीत सुना रहे है:
जगमग दीया जल उठे-
द्वार-द्वार चमकी दिवाली-
खीर बतासा बांट रहे है-
अम्मा सबको भर-भर थाली-
झूम-झूम के हँसते गाते-
दौड़-दौडकर दीप जलाते-
सबको फुलजड़ी खिलौने-
बच्चे बाजारों से लाते...

Posted on: Feb 11, 2018. Tags: VIVEK KUMAR AHIRWAR

गंजा ला पी के भांग ला खा, जा भोला जा कैलासी मा जा...गीत -

ग्राम-सरईमाल, पोस्ट-सामनापुर, जिला-डिंडौरी (मध्यप्रदेश) से विवेक कुमार अहिरवार एक गीत सुना रहे हैं :
गंजा ला पी के भांग ला खा – जा भोला जा कैलासी मा जा – दाई ओ दाई ओ महू जाहूं मामा गांव – तै झन जा मईके तै झन जा – लडू के पतरी में तै झन रिसा – सुन धन भागी सुन बिष्णु अच्छा करे ला मोला फसाय...

Posted on: Dec 21, 2017. Tags: VIVEK KUMAR AHIRWAR

सुख का दाता सब का साथी शुभ का यह संदेश है...मध्यप्रदेश गीत -

ग्राम-सरईमाल, जिला-डिंडौरी (मध्यप्रदेश) से विवेक कुमार एक उनके राज्य पर एक गीत सुना रहे हैं :
सुख का दाता सब का साथी शुभ का यह संदेश है – माँ की गोद, पिता का आश्रय मेरा मध्यप्रदेश है – विंध्याचल सा भाल नर्मदा का जल जिसके पास है – यहां ज्ञान विज्ञान कला का लिखा गया इतिहास है – उर्वर भूमि, सघन वन, रत्न, सम्पदा जहां अशेष है – स्वर-सौरभ-सुषमा से मंडित मेरा मध्यप्रदेश है – चंबल की कल-कल से गुंजित कथा तान, बलिदान की – खजुराहो में कथा कला की, चित्रकूट में राम की...

Posted on: Dec 19, 2017. Tags: VIVEK KUMAR