दुआए और आशीर्वाद ले तबियत से...जीवन उपयोगी पंक्तियाँ-

जिला-राजनांदगांव (छत्तीसगढ़) से वीरेंद्र गंधर्व कुछ जीवन उपयोगी पंक्तियाँ सुना रहे हैं :
पेड़ से गिर पहाड़ से गिर-
चाहे तो आसमान से गिर-
पर मत गिर कभी-
दुनिया की नजरों से-
नजरों से गिरा व्यक्ति-
बदी की और जाता है-
अगर जीना है तो – दुआए और आशीर्वाद ले तबियत से...

Posted on: Jun 29, 2020. Tags: VIRENDRA GANDHARV CG

तू तो है कोरोना सबका हत्यारा...कविता-

राजनंदगांव (छत्तीसगढ़) से वीरेंद्र गंधर्व एक कविता सुना रहे हैं:
तुझसे त्रस है विश्व सारा-
तू तो है कोरोना सबका हत्यारा-
बंद कराये विद्यालय बंद कराये दुकाने-
और क्या क्या गुल खिलायेगा न जाने-
हम सब आपस में मिलकर-
तुझे चित्त करेंगे सारे खाने-
संकल्प लिया है सर्व हारा-
तुझसे पायेंगे छुटकारा...

Posted on: Mar 29, 2020. Tags: CG POEM RAJNANDGAON VIRENDRA GANDHARV

थॉमस अल्वा एडीसन और उनके अविष्कार...

राजनंदगांव (छत्तीसगढ़) से वीरेन्द्र गंधर्व थामस अल्वा एडीसन के बारे में बता रहे हैं, थामस अल्वा एडीसन ऐसे वैज्ञानिक थे जिन्हें बहुत कम सुनाई देता था, उन्होंने एक हजार यंत्रो का अविष्कार किया, जिनके माध्यम से सुना जाता है, दुनिया को गीत सुनाने का काम सबसे पहले उन्होंने ग्रामो फोन के माध्यम से किया, उसके बाद कई यंत्र बने, बिजली के बल्ब, माइक्रोफोन जैसी कई चीजों का अविष्कार एडीसन ने किया, जिसका आज हम उपयोग कर रहे हैं|

Posted on: Mar 02, 2020. Tags: CG RAJNANDGAON STORY VIRENDRA GANDHARV

भगवान उपहार से नहीं सच्ची श्रद्धा से खुस होते हैं...कहानी-

एक गरीब व्यक्ति था वह एक बार दर्शन के लिये रात के समय मंदिर गया और पुजारी से कहा मै भगवान से मिलना चाहता हूँ, पुजारी बोले बहुत रात है सुबह आना, तब वह बोला नहीं मुझे अभी भगवान से अकेले में मिलना है| वह व्यक्ति ज़िद पर अड़ा हुआ था तो पुजारी ने पूछा कुछ भेंट लाये हो तो उसने कहा नहीं लाया हूँ, मैं गरीब हूँ क्या भेंट दे सकता हूँ, वह विचार करने लगा क्या भेट दिया जाये, तब उसने सोच संसार में सबसे बड़ा भेंट तो ज्ञान है जो महाभारत ग्रन्थ से मिलता है इसलिये वह महाभारत ग्रंथ लाया, लेकिन उससे बात नहीं बनी, फिर पुजारी उसे कुछ और लाने के लिये कहा तब दूसरे दिन तलवार लेकर आया और बोला यह सबसे बहादुर व्यक्ति की तलवार है, उससे भी बात नहीं बनी और उसे कुछ और लाने के लिये कहा गया फिर तीसरे दिन वह सबसे बड़े राजा का मुकुट लेकर आया लेकिन उससे भी बात नहीं बनी और उसे कुछ और लाने को कहा गया| फिर वह परेशान होकर सोचने लगा क्या लाया जाय, तब वह अगले दिन आते समय एक ऐसे व्यक्ति को देखा जो विकलांग है भूखा है असहाय है, जब वह मंदिर पंहुचा तो पुजारी से बोला आज मै कुछ नहीं लाया कुछ मांगने आया है, पुजारी बोले क्या ? गरीब व्यक्ति उस अपाहिज, असहाय, भूखे व्यक्ति के बारे में बताया और उसके लिये कुछ माँगा यह देखकर मूर्ति आँखों में आंसू आ गये कहानी का सरांस यह है कि भगवान उपहार नहीं सच्ची श्रद्धा से खुस होते हैं...

Posted on: Feb 04, 2020. Tags: CG RAJNANDGAON STORY VIRENDRA GANDHARV

क्या मिलता है जी शराब से...गीत-

राजनांदगांव (छत्तीसगढ़) से वीरेंद्र गंधर्व एक गीत सुना रहे हैं:
मुनिया ने पूछा अपने बाप से, क्या मिलता है जी शराब से-
जितना कमाते हो रोज तुम, कर देते हो इसमें रोज ग़ुम-
भरते हो घर को संताप से, क्या मिलता है जी शराब से-
खाने के लाले पड़े हैं, कई कर्ज वाले खड़े हैं-
दूर किया मुझको किताब से, क्या मिलता है जी शराब से-
माँ की आँखों में है पानी, अर्थहीन है ज़िन्दगानी-
सवाल कभी किया कभी आपसे, क्या मिलता है जी शराब से...

Posted on: Feb 03, 2020. Tags: CG RAJNANDGAON SONG VIRENDRA GANDHARV

View Older Reports »