पलना डुलाबे मेरी छोटी रे ननदिया...सोहर गीत-

ग्राम-डभौरा, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से उषा एक बघेली सोहर गीत सुना रही हैं:
पलना डुलाबे मेरी छोटी रे ननदिया-
हे पलना डुलाये तोसे नाता रे ननदिया-
पलना डुलाबे मेरी छोटी रे ननदिया-
सासु जो आहिं पीतर पीसन को-
पीतर पीसइ तोसे नाता रे ससुरिया-
पलना डुलाबे मेरी छोटी रे ननदिया-
आ पलना डुलाइ तोसे नाता रे ननदिया-
लड्डू बनन को जेठी जो आई-
लड्डू बंधई तोसे नाता रे जेठानिया-
पलना डुलइ मेरी छोटी रे ननदिया...

Posted on: Jan 18, 2020. Tags: MP REWA SONG USHA

समना भदौना पुरवा पछिवना से उठी रे...बघेली सावन गीत-

ग्राम-डभौरा, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से उषा बघेलखंडी भाषा में एक सावन गीत सुना रही हैं :
समना भदौना पुरवा पछिवना से उठी रे-
ददरिया बरस लागे ना-
मुहे ननी नानी बुंदिया बरस लगे ना-
पुरवा पछिवाना से उठी रे बदरिया-
अपने महलिया से ससुरो निहारे-
आवत होई न मोर पतली-
पटोहिया बेज्जती होई ना...

Posted on: Apr 16, 2017. Tags: USHA REWA

कौन लगाये आमुन जामुन कौन लगाये सुघर कजिरिया...बघेली विवाह गीत

ग्राम पंचायत-डभौरा,जिला-रीवा,(म.प्र.) से उषा जी बघेली भाषा में रीति रिवाज के तहत एक विवाह गीत सुना रही हैं :
कौन लगाये आमुन जामुन-
कौन लगाये सुघर कजिरिया-
सेंदुर महावर,माथ के टिकली – कौन लगाये आमुन जामुन...
दाई ह लगाये सुघर कजरिया-
सिन्दुरिया महावर-
कौन नदी नहाये कोन धोडिया-
दाई ह नदी नहाये चढत न ढोडिया-
माथ सिंदूर धरे माथ क सोना बनवाए-
एक दिन फस गईन भईया रहे गये पाव फैलाए-

Posted on: Apr 19, 2016. Tags: Usha Rewa

औरतें उठी नहीं तो जुल्म बढता जाएगा...महिला सशक्तिकरण गीत

बहनी दरबार, ग्राम-डभौरा, जिला-रीवा, मध्यप्रदेश से उषा महिला सशक्तिकरण पर एक गीत प्रस्तुत कर रही हैं:
औरतें उठी नहीं तो जुल्म बढता जाएगा-
जुल्म करने वाला सीना जोर बनता जाएगा-
देखो इन महिलाओ को जो आ गईं सामने-
इनके संग मिल जाओ तो सैलाब रुक ना पाएगा-
दिल में जो डर का किला है तोड़ दो अन्दर से तुम-
एक ही धक्के में यह अपने आप ही ढह जाएगा-
आओ मिलकर हम बढ़ें-पढ़ें अधिकार अपने छीन लें-
काफिला अब चल पड़ा है अब ना रोका जाएगा-
औरतें उठी नहीं तो जुल्म बढता जाएगा...

Posted on: Aug 11, 2015. Tags: Usha Rewa

जब बन ही गया बहनों का संगठन, इसको मजबूत करने का वादा करें...

बहिनी दरबार,रीवा, मध्यप्रदेश से उषा जी महिला सशक्तिकरण पर आधारित एक गीत प्रस्तुत कर रही हैं :
जब बन ही गया बहनों का संगठन, इसको मजबूत करने का वादा करें-
चार दिन की सहेली सहेली नहीं, उम्र भर साथ देने का वादा करें-
औरतों के सवालों पर आकर सभी, खूब चर्चा चलाने का वादा करें-
औरतों के लिए कुछ भी मुस्किल नहीं, ऐसी हिम्मत जगाने का वादा करें-
दुःख कोई बहन पर अगर आ पड़े, प्यार की छांव देने का वादा करें-
जब बन ही गया बहनों का संगठन, इसको मजबूत करने का वादा करें...

Posted on: Jul 19, 2015. Tags: Usha Rewa