रेला-रेला रे रे रेला, रे रे रेला रेला-रेला रे रेला...गोंडी गीत

साथी उज्ज्वला मालू बोगामी ग्राम व तालुका-भामरागढ़, जिला-गढ़चिरोली (महाराष्ट्र) से एक माड़िया गोंडी गीत गा रही हैं। गीत के माध्यम से पेड़-पौधों के संरक्षण के प्रति सचेत किया गया है:
रे रे ला-रे रे ला-रे रे ला, रे रे ला-रे रे ला-रे रे ला
मारांगे मारंग उर्सकाट, मारंगे मारंग पिसिकाट
हिके मरंग हुके मरंग, हिके हुके मरंग मर
मारांगे मारंग उर्सकाट, मारंगे मारंग पिसिकाट
हिके पुंगर हुके पुंगर, हिके हुके पुंगर पुंगर
मारांगे-मारंग उर्सकाट, मारंगे-मारंग पिसिकाट
हिके काया हुके काया, हिके-हुके कायांग काया
मारांगे-मारंग उर्सकाट, कायांग कायांग पुटीकाट
उर्सकांग मारंगे पिसिकाट, मारांग ना कीड़ा किया काट
रे रे ला-रे ला, रे रे ला.........

Posted on: Nov 05, 2014. Tags: Ujjvalamalu Bogami

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download